VIDEO ….जब मांदर की थाप पर कलेक्टर थिरकने लगे…. राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य के ट्रायल में जिलाधिकारी के इस अंदाज के कायल हुए लोग… लोगों ने भी खूब दिया साथ

सूरजपुर 07 नवम्बर 2019। रामानुजनगर में आयोजित राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में कलेक्टर दीपक सोनी अलग ही अंदाज में नजर आये। नर्तक मंडली के साथ कलेक्टर दीपक इस कदर रम गये कि उन्होंने खुद अपने ही ढोलक की थाप पर थिरकना शुरू कर दिया। कलेक्टर यहां सूरजपुर जिले़ के पारंपरिक नृत्य करमा पर मांदर लेकर काफी देर तक थिरकेे। जिले के सबसे बड़े अधिकारी को पारंपरिक अंदाज में झूमते देख मौजूद लोगों ने भी जमकर उनका उत्साह बढ़ाया। दरअसल ये पूरा आयोजन राज्य स्तरीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए चयन प्रतियोगिता के लिए था। कार्यक्रम में जिले भर से अलग-अलग पारंपरिक नृत्य मंडली आयी हुई थी। चयन प्रतियोगिता में खुद कलेक्टर दीपक भी मौजूद थे। इस दौरान विवाह, फसल कटाई, पारंपरिक त्यौहार एवं अन्य ओपन कैटेगरी में नर्तक मंडली ने अपनी अलग-अलग प्रस्तुति दी।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

इस मौके पर कलेक्टर दीपक सोनी ने कहा कि छ.ग. शासन का यह प्रयास है, कि लोक परंपरा एवं संस्कृति को बढ़ावा मिले, इस आयोजन से पूरे जिले में उत्सव का माहौल निर्मित हुआ है, चयनित चार दलों को जिला स्तरीय प्रतियोगिता में अपना प्रदर्शन देने एवं रायपुर व दिल्ली में आयोजित उत्सव में भी शामिल होने का अवसर प्राप्त होगा। शासन द्वारा आयोजित इस महोत्सव के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के नर्तक दलों को अपनी प्रतिभा दिखाने का एक अच्छा अवसर प्राप्त हुआ है।

कार्यक्रम में चयनित कलाकारों को कलेक्टर के हाथों शील्ड एवं ट्राॅफी प्रदान कर पुरस्कृत किया गया, राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 2019 में करमा नृत्य के थीम विवाह गीत पर प्रस्तुती देने वाले ग्राम कौशलपुर के रामदेव एवं साथी, फसल कटाई थीम पर प्रस्तुती देने वाले ग्राम कृष्णपुर के गंभीरसाय एवं साथी, पारम्परिक त्यौहार थीम पर प्रस्तुती देने वाले ग्राम जगतपुर के बैगाराम एवं साथी, कर्मा ओपन केटेगरी थीम पर प्रस्तुती देने वाले ग्राम पण्डरी के बुधराम राजवाड़े एवं साथी का प्रथम स्थान पर चयन कर जिला उत्सव हेतु किया गया है। विजेता प्रतिभागी व दल सूरजपुर में होने वाली जिला स्तरीय नृत्य उत्सव में रामानुजनगर का प्रतिनिधित्व करेंगे। कार्यक्रम के समापन पर छत्तीसगढ़ का राजकीय गीत ‘‘अरपा पैरी के धार‘‘ बजाया गया जिसपर सभी ने खडे़ होकर साथ दिया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.