VIDEO : डूबते सूरज को अर्घ्य देने उठे हजारों हाथ…..कल पौ फटते उदयगामी सूर्य की होगी अराधना…..जानिये क्यों दिया जाता है डूबते सूरज को अर्घ्य

रायपुर 2 नवंबर 2019। …आस्था के सैलाब में आज पूरा छ्त्तीसगढ़ रंगा रहा। छठ पूजा के चौथे दिन डूबते सूर्य को अर्ध्य देने की परंपरा प्रदेश भर के सौ से ज्यादा घाटों पर निभायी गयी। छठ घाट पर नजारे ऐसे थे मानों उत्तर भारतीयों का सैलाब नदी घाटों पर उतर आया हो। कहीं प्रसाद की सौंधी खुशबू, तो कहीं जगमग जलते दीये… कहीं गूंजते छठ पूजा के गीत तो कहीं श्रद्धालुओं का रैला…छत्तीसगढ़ के हर नदी-नहरों के घाटों पर यही नजारा था। रायपुर के महादेव घाट, हीरापुर में हजारों की संख्या में श्रद्धालू पहुंचे और भगवान सूरज की पारंपरिक विधि विधान से पूजा-अर्चना की और अस्ताचलगामी सूरज को नमन किया। कल उदयीमान सूरज को अर्घ्य देने के साथ  पजून का समापन होगा।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खुद बिलासपुर के बाद आज रायपुर के महादेवघाट में आयोजित छठ पूजा के कार्यक्रम में पहुंचे। इस दौरान उन्होंने भगवान सूरज की पूजा की। बस्तर से लेकर वाड्रफनगर तक छठ पूजा की गूंज सुनाई पड़ रही है। पहली दफा प्रदेश में भूपेश बघेल सरकार ने छठ पर छुट्टी का ऐलान किया है, लिहाजा इस बार पर्व पर भीड़ काफी नजर आ रही है। पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में छुट्टी नहीं होने की वजह से कामकाजी लोगों की मौजूदगी पूजा के दौरान नहीं होती थी, लेकिन इस बार काफी संख्या में लोग छठ घाट पर नजर आये।

बिलासपुर का नजारा तो अद्भूत था, जहां अरपा नदी के घाट पर दो से तीन किलोमीटर लंबी छठव्रतियों की कतार देखी गयी। छठ घाट हजारों दीयों से जगमग होता रहा। केले के पेड़ और गन्ने से भी छठ घाट को काफी खुबसूरती के साथ सजाया गया था। बिलासपुर में उत्तर भारतीयों की बड़ी भीड़ की वजह से छठ पूजा का दृष्य तो निराला था ही, प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी छठ की धूम देखी गयी।

क्यों दिया जाता है डूबते सूरज को अर्घ्य

सुबह के वक्त सूर्य की आराधना से सेहत बेहतर होती है. दोपहर में सूर्य की आराधना से नाम और यश बढ़ता है. शाम के समय सूर्य की आराधना से जीवन में संपन्नता आती है.शाम के समय सूर्य अपनी दूसरी पत्नी प्रत्यूषा के साथ रहते हैं.इसलिए प्रत्यूषा को अर्घ्य देना तुरंत लाभ देता है.जो डूबते सूर्य की उपासना करते हैं ,वो उगते सूर्य की उपासना भी ज़रूर करें। ज्योतिष के जानकारों की मानें तो अस्त होते सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा इंसानी जिंदगी हर तरह की परेशानी दूर करने की शक्ति रखती है. फिर समस्या सेहत से जुड़ी हो या निजी जिंदगी से. ढलते सूर्य को अर्घ्य देकर कई मुसीबतों से छुटकारा पाया जा सकता है.

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.