पुरानी पेंशन कि बहाली के लिए 9 नवम्बर को दिल्ली में होगा जंगी प्रदर्शन……हजारों की संख्या में पेंशन विहीन कर्मचारी होंगे छत्तीसगढ़ से रवाना

रायपुर 6 नवंबर 2019। पुरानी पेंशन कि लड़ाई अब प्रदेशों से होते हुए देश का दिल और राजधानी दिल्ली तक पहुंच चुकी है।राष्ट्रीय पेंशन स्कीम के दायरे में आने वाले देश के लाखों कर्मचारी अब पुरानी पेंशन की लड़ाई को लेकर दिल्ली रवाना होने वाले हैं।दिल्ली जो की देश की राजधानी भी है और देश का दिल भी यहां होने वाली हरेक गतिविधि केंद्र सरकार के नज़रों से होकर गुजरता है ऐसे में पुरानी पेंशन की लड़ाई को लड़ रहे NMOPS (नेशनल मूवमेंट फॉर ओल्ड पेंशन स्कीम) के सदस्य राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय बंधु के नेतृत्व में 9 नवम्बर को देश की राजधानी दिल्ली में जंगी प्रदर्शन करते हुए पेंशन सत्याग्रह करने वाले हैं।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

छत्तीसगढ़ अंशदायी पेंशन कर्मचारी कल्याण संघ के प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप पांडेय ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय बंधु के आह्वान एवं प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के निर्देश पर छत्तीसगढ़ के हजारों पेंशन विहीन कर्मचारी दिल्ली में 9 नवम्बर को होने वाले पेंशन सत्याग्रह में शामिल होने के लिए उत्सुक हैं, हमारे साथी अलग -अलग माध्यम से दिल्ली रवाना होने वाले हैं।ज्यादातर लोग ट्रेन से दिल्ली जाने की तैयारी कर लिए हैं वहीं हमारे कुछ उत्साही साथी अपने निजी वाहन से भी दिल्ली के लिए रवाना होंगे।बिल्हा विकासखंड से सूरज सोनी अपने मोटर सायकल से दिल्ली के लिए 6 नवम्बर को प्रातः 10 बजे रवाना होंगे जो जबलपुर ग्वालियर होते हुए दिल्ली पहुंचेंगे।सूरज सोनी जी रास्ते में लोगों से मुलाकात करते हुए बैनर पोस्टर के माध्यम से पुरानी पेंशन की बहाली के लिए प्रचार- प्रसार करते हुए जाएंगे ।उनके बिलासपुर से दिल्ली तक का रूट चार्ट तैयार कर लिया गया है।बिलासपुर से दिल्ली के बीच अनेक शहरों में सोनी जी का संघ के साथी स्वागत करने के लिए उत्सुक हैं।

प्रदीप पांडेय ने बताया कि वर्तमान में छत्तीसगढ़ में अलग – अलग विभागों से लगभग 3 लाख कर्मचारी नवीन पेंशन स्कीम के तहत आते हैं।प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ अंशदायी पेंशन कर्मचारी कल्याण संघ को वर्तमान में लगभग 58 विभागों के कर्मचारी संगठनों का समर्थन प्राप्त है।हमारा संघ सभी विभागों को साथ लेकर पुरानी पेंशन की बहाली के लिए लगातार प्रयास कर रहा है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.