तीस हजारी हिंसा की न्यायिक जांच के आदेश, 6 सप्ताह में देनी होगी रिपोर्ट…. नोटिस किया गया जारी ..

नयी दिल्ली 3 नवंबर 2019। दिल्ली हाईकोर्ट ने तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. यह न्यायिक जांच रिटायर जस्टिस एसपी गर्ग के नेतृत्व में की जाएगी. इस जांच में सीबीआई के डायरेक्टर, आईबी के डायरेक्टर, विजिलेंस डायरेक्टर या सीनियर अधिकारी मदद करेंगे.दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को निर्देश दिया है कि वह इस बवाल के सिलसिले में स्पेशल कमिश्नर संजय सिंह और एडिशनल डीसीपी हरिंदर सिंह का तबादला करे।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को आरोपी पुलिस अधिकारियों को तुरंत निलंबित करने का निर्देश दिया है, साथ ही दिल्ली सरकार को वकील विजय वर्मा को 50,000 रुपये की एकमुश्त पूर्व-अनुग्रह राशि प्रदान करने और अन्य दो अन्य वकीलों को 15,000 रुपये और 10,000 रुपये देने का निर्देश दिया है।

इस झड़प में 20 से अधिक लोग घायल हो गए थे। दिल्ली पुलिस के आयुक्त अमूल्य पटनायक, प्रशासनिक समिति के जजों और तीस हजारी कोर्ट में जिला न्यायाधीशों के साथ बैठक करने के बाद दिल्ली उच्च न्यायालय ने जल्द ही मामले की सुनवाई करने का फैसला किया।

दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने कहा कि क्राइम ब्रांच की स्पेशल टीम मामले की जांच कर रही है। आंतरिक जांच बैठाई गई है। मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन किया गया है। वकील को लॉकअप में ले जाने का आरोपी पुलिस के एक सब-इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.