विधानसभा के अंतिम दिन.. छाई रहीं आशा पारिख.. अमिताभ बच्चन और रेखा.. बोले महंत – आशा पारेख पीती हैं तीस साल से अमारी का शरबत.. शिव डहरिया ने पूछा – “आपको कैसे पता महोदय”

रायपुर,2 दिसंबर 2019। विधानसभा के अंतिम कार्य दिवस पर जबकि वानिकी और उद्यानिकी विश्वविद्यालय विधेयक पर चर्चा चल रही थी, तब ठहाके गूंजे जबकि, छत्तीसगढ़ की 36 भाजी का ज़िक्र चलते चलते मूसली और फिर आशा पारेख अमिताभ और रेखा तक जा पहुँचा।
वानिकी और उद्यानिकी विश्वविद्यालय के विधेयक को मंज़ूरी के दौरान छत्तीसगढ़ के वनौषधियों का ज़िक्र निकला तो बस्तर में बतौर शरबत इस्तमाल होने वाले अमारी का ज़िक्र भी आया, ज़िक्र होते ही विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने कहा
“मैं आप लोगों को बताना चाहता हूँ कि मशहूर अभिनेत्री आशा पारेख तीस वर्षों से अमारी का जूस पी रही हैं..”

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

विधानसभा अध्यक्ष महंत के ऐसा कहते ही मंत्री शिव डहरिया खड़े हुए और उन्होंने पूछा
“आपको कैसे पता है आदरणीय.. वो तीस साल से अमारी का जूस पी रही हैं”
मंत्री शिव डहरिया के सवाल पर विधानसभा की हंसी नहीं रुकी.. और तब विधानसभा अध्यक्ष

चरणदास महंत ने बताया-

“तीस बरस पहिले आशा पारेख आए रहिस बस्तर.. शूटिंग बर..तब अरविंद नेताम ओला घूमाए रहिस..अउ अमारी के शरबत पिलाए रहिस.. ओहर आजतक भेजथे ओला”
सदन एक बार फिर तब हंसा जबकि इसी पर चर्चा के दौरान ट्यूलिप की बात हुई। वरिष्ठ विधायक धर्मजीत सिंह ने ट्यूलिप का परिचय बताते हुए कहा-
“ओ सिलसिला फिलिम मा अमिताभ बच्चन रेखा के हाथ पकड़कर गाना गाए हे.. ओमा जे फूल दिखथे.. ओहीच्च ला कथें ट्यूलिप”
तभी ज़िक्र औषधी मूसली का निकला जिसके बस्तर उत्पादन की बेहद माँग है.. वरिष्ठ विधायक पून्नीलाल मोहले ने कहा
“हओ मूसली.. सफ़ेद होथे”
कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने मुस्कुराते हुए कहा
“ममा.. मैं जानत रहेंव.. मूसली के ज़िक्र में तैं बोलबे जरुर..”
सदन देर तक इन संदर्भ और संवाद के आदान प्रदान पर मुस्कुराता रहा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.