NPG EXCLUSIVE: चली ट्रांसफर की वो बयार.. संविदा कर्मी का भी कर दिया ट्रांसफर.. नियम चारों खाने चित्त

रायपुर,29 अगस्त 2019। सूबे में ट्रांसफर की वो बयार बही है कि जिनका ट्रांसफर नही हो सकता.. उनका भी ट्रांसफर फूल स्पीड में जारी हो गया है। बताया जाता है कि, उत्तर छत्तीसगढ में मौजुद एक नेता अपने ईलाके में ट्रांसफर नेता के रुप में कुख्यात हो गया है और जो कारनामा हम बता रहे हैं यह उनकी ही कृपा से फलीभूत हो गया है।संविदा कर्मी का स्थानांतरण नही हो सकता, लेकिन शिक्षा विभाग ने बाक़ायदा आदेश जारी कर संविदा कर्मी का नाम लिपिक संवर्ग (टी संवर्ग ) में जोड़ते हुए रवानगी दर्ज कर दी है।
प्रदेश के मंत्रीमंडल में रविंद्र चौबे के बाद सबसे अनुभवी मंत्री डॉ प्रेमसाय सिंह के विभाग में उलट बाँसी थमने का नाम नहीं ले रही है, हालाँकि निशाने पर डॉ प्रेमसाय सिंह नही बल्कि उनका स्टाफ़ आ रहा है।वन विभाग में स्थानांतरण सुची को लेकर चटपटी ख़बरों के बीच यह खबर सबको अचरज में डाल रही है।
दरअसल कोरिया जिले में राजीव गांधी शिक्षा मिशन के लिए कोरिया कलेक्टर ने 2017 में संविदा पर लेखापाल पद पर नियुक्ति की। इनमें आकांक्षा सिंह का नाम लेखापाल कस्तुरबा आश्रम बंजी के लिए आदेशित किया गया। शिक्षा विभाग से जारी स्थानांतरण सूची में यह नाम लिपिक संवर्ग ( टी संवर्ग ) में सबसे पहले नंबर पर मौजुद है।
इस आदेश के तहत संविदा पर नियुक्त कु आकांक्षा सिंह का ट्रांसफर कोरिया जिले से बिलासपुर जिले कर दिया गया है। आदेश से अनुसार आकांक्षा सिंह अब कस्तुरबा गांधी आवासीय विद्यालय सेमरा, गौरेला बिलासपुर में सेवा देंगी।
संविदा कर्मी को कतिपय परिस्थितियों में जिले के ही भीतर अटैच किया जा सकता है लेकिन उसे जिले से ही बाहर कर दिया जाए यह अपने आप में अजूबा है।

 

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

 

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.