नोटबंदी के बाद अब सोने की बारी! मोदी सरकार लेने जा रही है दूसरा सबसे बड़ा फैसला…..प्रस्ताव भेजा गया कैबिनेट में….

नयी दिल्ली 30 अक्टूबर 2019। काले धन (Black Money) को रोकने मोदी सरकार (Modi Government) नोटबंदी (Demonetisation) के बाद एक और बड़ा कदम उठाने जा रही है. सरकार अब काली कमाई से सोना (Gold) खरीदने वालों पर लगाम लगने के लिए बड़ा फैसला लेने जा रही है. जानकार बताते हैं कि मोदी सरकार सोने के लिए एमनेस्टी स्कीम (Amnesty Scheme) लाने की तैयारी कर रही है. गोल्ड Amnesty Scheme के तहत अब लोगों को तय मात्रा से ज्यादा सोने की जानकारी और उसकी कीमत सरकार को बतानी होगी.

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

जानकार बताते हैं कि गोल्ड (Gold) में एमनेस्टी स्कीम (Gold Amnesty Scheme) के लिए एक मसौदा भी तैयार किया जा चुका है और इस मसौदे को कैबिनेट के सामने रखा जाएगा. इसके तहत तयशुदा मात्रा से अधिक बगैर रसीद वाले सोने की खरीद की जानकारी साझा करनी होगी. इसके अलावा सोने की कीमत (Gold Price) की भी जानकारी सरकार को देनी होगी. बता दें कि नोटबंदी (Demonetisation) के बाद मोदी सरकार (Modi Government) का कालेधन पर लगाम लगाने के लिए यह दूसरा बेहद महत्वपूर्ण फैसला होगा.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्र सरकार की एमनेस्टी स्कीम के अंतर्गत सोने की कीमत को तय करने के लिए वैल्युएशन सेंटर से प्रमाण पत्र लेना होगा. बता दें कि नए स्कीम के तहत बगैर रसीद वाले जितने भी सोने का खुलासा किया जाएगा उस पर एक तयशुदा मात्रा में टैक्स (Tax) का भुगतान करना जरूरी होगा. हालांकि इस स्कीम को एक खास समयसीमा के लिए ही शुरू की जाएगी. वहीं स्कीम खत्म होने पर तयशुदा मात्रा से अधिक सोने की खरीद पर भारी जुर्माना देना पड़ सकता है. मोदी सरकार मंदिरों (Mandir) और ट्रस्ट (Trust) में रखे हुए सोने के लिए भी कुछ बड़े ऐलान कर सकती है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) एमनेस्टी स्कीम (Amnesty Scheme) के अलावा सोने को एसेट क्लास (Asset Class) के तौर पर विकसित करने के लिए भी बड़ी घोषणा कर सकती है. साथ ही सरकार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की ओर निवेशकों का रुझान बढ़ाने के लिए इसमें भी जरूरी बदलाव हो सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक निवेशकों को सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Sovereign Gold Bond) प्रमाणपत्र को मोर्गेज करने का भी विकल्प मिल सकता है. केंद्र सरकार (Central Government) गोल्ड बोर्ड (Gold Board) बनाने के लिए भी घोषणा कर सकती है.

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.