NMDC ने पहली तिमाही में प्रोडक्शन, सेल और इंकम का गढ़ा नया कीर्तिमान, 35 फीसदी मुनाफा बढ़ा, सीएमडी बैजेंद्र कुमार बोले, कंपनी के लिए गौरव का क्षण

0 बैलाडीला में हड़ताल और दोणिमलै खान चालू नहीं होने के बाद भी कंपनी ने की शानदार प्रगति

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

हैदराबाद, 13 अगस्त 2019। लौह अयस्क का उत्पादन करने वाले देश की सबसे बड़ी सरकारी कंपनी नेशनल मिनरल डेवलमपेंट कारपोरशन ने पहली तिमाही में अब तक का सबसे शानदार प्रदर्शन करते हुए अपना पुराना रिकार्ड तोड़ दिया है। इस मिनी रत्न कंपनी ने न केवल प्रोडक्शन और सेल में अपना झंडा फहराया है बल्कि आय में भी नया रिकार्ड बनाया है। कंपनी ने पिछले साल पहली तिमाही में 1477 करोड़ रुपए की आय अर्जित की थी, इस बार 1913 करोड़ का मुनाफा कमाया है।
85 बैच के आईएएस एन बैजेंद्र कुमार के कंपनी के सीएमडी बनने के बाद एनएमडीसी ने सभी क्षेत्रों में जबर्दस्त कामयाबी अर्जित की है। अफसर बताते हैं, पहली तिमाही में लौह अयस्क का उत्पादन 8.43 मिलियन टन रहा जबकि 2018-19 की पहली तिमाही में यह 6.98 मिलियन टन था। इस प्रकार 21 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। इसी प्रकार लौह अयस्क की बिक्री जो 2018-19 की पहली तिमाही में 6.78 मिलियन थी वह वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में बढ़कर 8.67 मिलियन टन हो गई। यह 28 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है। ये परिणाम स्थापना से लेकर अब तक पहली तिमाही के सर्वश्रेष्ठ परिणाम हैं (दोणिमलै को छोड़कर जो वित्त वर्ष 20 की पहली तिमाही में प्रचालनगत नहीं था।) अगर दोणिमलै का आपरेशन प्रारंभ हो गया होता तो कंपनी का पारफारमेंस का ग्राफ और उपर जाता।

लौह अयस्क की बिक्री और आमदनी में भी एनएमडीसी ने कीर्तिमान स्थापित किया है। वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में कुल बिक्री रूपए 3264 करोड़ रही जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के रूपए 2422 करोड़ की तुलना में 35 प्रतिशत अधिक है। वास्तव में यह परिणाम पिछले 5 वर्षों में सर्वोत्तम है तथा यदि दोणिमलै के राजस्व को छोड़कर देखें तो स्थापना से लेकर अब तक पहली तिमाही का यह सर्वोत्तम टर्नओवर है।

2019-20 की पहली तिमाही में कर-पूर्व लाभ तथा कर-पश्चात लाभ क्रमशः रूपए 1913 करोड़ एवं रूपए 1179 करोड़ रहा जो वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही के रुपए 1477 करोड़ तथा रुपए 975 करोड़ से क्रमशः 30 प्रतिशत एवं 21 प्रतिशत अधिक है।

तिमाही के दौरान एनएमडीसी ने लगातार दूसरे वर्ष सीएसआर वर्ग में प्रतिष्ठित एसएंडपी ग्लोबल प्लैट्स मेटल अवार्ड 2019 प्राप्त किया। एनएमडीसी को “फ्रास्ट एंड सुलिवन” दृ ऊर्जा तथा संसाधन संस्था (टेरी) सुस्थिरता 4.0 अवार्ड में चैलेंजर्स वर्ग में श्रेष्ठता प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ। एनएमडीसी नए वित्त वर्ष में “कल्पतरू” नामक ईआरपी परियोजना अपनाकर डिजीटल ट्रांसफार्मेशन का प्रारंभ कर रहा है।

गौरव का क्षण-बैजेन्द्र कुमार

एनएमडीसी की इन उपलब्धियों पर सीएमडी एन. बैजेन्द्र कुमार कहा कि कर्नाटक में दोणिमलै खान बंद होने तथा छत्तीसगढ़ में बैलाडीला कॉम्प्लेक्स में चुनौतियों का सामना करने के बावजूद भौतिक तथा वित्तीय निष्पादनों में उत्कृष्टता तथा नए बैंच मार्क स्थापित करने में कंपनी के लिए यह गौरव का क्षण है। उन्होंने यह भी कहा कि कर्मचारियों द्वारा किए गए कठिन परिश्रम एवं उनके द्वारा दर्शाई गई प्रतिबद्धता के साथ एनएमडीसी निश्चय ही वित्त वर्ष 20 के निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त कर सकेगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.