दादा की बंदूक़ से सिंहदेव का अचूक निशाना देख बोले नेशनल कोच…. “वाह.. इसे कहते हैं पुराना हाथ” हवा में उड़ती तश्तरी को पहले शॉट में उड़ाया

भोपाल 12 अक्टूबर 2019। सफ़ारी शर्ट और ट्राउजर में बिलकुल जुदा लुक में टी एस सिंहदेव को देख लोग हैरान रह गए। इस अन्दाज़ में उन्हें बहुत ही कम लोगों ने देखा है। लोग चौंके क्योंकि अब तक सिंहदेव के गणवेश का मतलब होता रहा है कुर्ता पैजामा, मौसम के हिसाब से शाल।पर ये वेस्टर्न लुक कुछ इतना अनजाना था कि, नेशनल शूटिंग एकेडमी में जब वे पहुँचे तो, वे बग़ल में खड़े रहे और लोग उन्हें खोजते रहे।सिंहदेव हैरान परेशान लोगों को देख मुस्कुराते रहे, और कुछ देर बाद आयोजकों का ध्यान गया तो सभी ठहाका लगाने लगे। पर अभी कमाल देखना बाक़ी था। जहाँ प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव पहुँचे थे वो रायफल की शूटिंग एकेडमी थी जहाँ नेशनल लेव्हल के खिलाड़ियों को और निखारा जाता है।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

शूटिंग के दौरान बेहद कठिन प्रतिस्पर्धा होती है, जिसे शूटिंग की भाषा में “ट्रेप एंड स्किट” कहा जाता है।इसमें मिट्टी की डिस्क उड़ती है और उसे निशाने पर लेना होता है। इसमें बेहद परिपक्वता की ज़रूरत पड़ती है। सिंहदेव ने तब लोगों को और चौंका दिया जबकि उन्होंने पहले ही बार में “ट्रेप एंड स्किट” को सफलतापूर्वक हासिल कर लिया। सिंहदेव का अचूक निशाना देख वहाँ मौजूद कोच ने नेशनल खेल रहे खिलाड़ियों से कहा

“इसे ही कहते हैं पुराना हाथ.. पहली ही बार में अचूक.. शानदार”

स्वास्थ्य एवं पंचायत मंत्री सिंहदेव ने जिस बंदूक़ से निशाना साधा था, वह बारह बोर की वह बंदूक़ थी, जिसे कभी उनके दादा महाराज रामानुज शरण सिंहदेव इस्तेमाल करते थे।राइफ़ल शुटिंग और शिकार के शौक़ीन टी एस सिंहदेव ने .22 की पिस्टल से भी निशाना साधा और ज़ाहिर है निशाना अचूक रहा।
बाद में ट्विटर पर सिंहदेव ने लिखा भी –

“यदि आप खिलाड़ी हैं तो आप हमेशा खिलाड़ी रहते हैं”

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.