विधायक शकुंतला साहू ने शिक्षाकर्मियों के संविलियन के लिए लिखा अनुशंसा पत्र

कसडोल 9 नवंबर 2019। प्रदेश में संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मी शिक्षा विभाग में अपने संविलियन की मांग को लेकर संविलियन अधिकार मंच के बैनर तले प्रदेश संयोजक विवेक दुबे के द्वारा तैयार की गई रणनीति के अनुसार लगातार विधायकों से मिल रहे हैं और इसका उन्हें बेहतर प्रतिसाद भी मिल रहा है। कसडोल विधानसभा की युवा विधायक शकुंतला साहू से भी संविलियन अधिकार मंच के प्रतिनिधि मंडल ने मुलाकात की और शिक्षाकर्मियों की समस्या से अवगत कराया। उन्होंने विधायक शकुंतला साहू को बताया कि वे सब पूर्ववर्ती सरकार के 8 वर्ष के बंधन के निर्णय के चलते स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन से वंचित हो गए हैं और पंचायत विभाग में उन्हें समय पर वेतन तक नहीं मिलता है यहां तक कि दीपावली के पूर्व विरोध प्रदर्शन करने पर बड़ी मुश्किल से उन्हें वेतन भुगतान हुआ , पिछले 3 सालों से शिक्षाकर्मियों को महंगाई भत्ता नहीं मिला है जिसके चलते उन्हें आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

प्रदेश में जहां सभी कर्मचारियों को स्थानांतरण का लाभ मिला वही शिक्षाकर्मियों को इससे भी जानबूझकर दूर रखा गया और इन सभी परेशानियों का एकमात्र कारण उनका संविलियन न होना है ऐसे में उन्होंने विधायक महोदया से जनप्रतिनिधि होने के नाते संविलियन की मांग को सरकार के समक्ष रखने का निवेदन किया इस पर शकुंतला साहू ने लिखित में संविलियन की मांग पूरा करने को लेकर न केवल अनुशंसा की बल्कि संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मियों को विश्वास दिलाया कि वह प्रदेश के मुख्यमंत्री से इस संबंध में बात करेंगी और पुरजोर कोशिश करेंगी कि जल्द से जल्द सरकार उनके संविलियन का निर्णय ले । उन्होंने कहा कि वह कोशिश करेंगी कि जो वादा सरकार द्वारा शिक्षाकर्मियों से किया गया है वह संविलियन का वादा जल्द से जल्द पूरा हो ।
विधायक शकुंतला साहू से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में सुरेंद्र बंजारे,हरप्रसाद कश्यप,दयाराम साहू,प्रदीप कुमार,शिवचरण,विजय कुमार,छन्नू साहू,मनीषा गुप्ता, अरुण कुमार,जितेंद्र कुमार,देव कुमार,तिलक,मनोज,राम किशन,शंतनु, हेमन,अनुश्वर,जगदीश वर्मा,लोचन प्रसाद,सोनसाय,राज कुमार साहू शिक्षक एल बी शामिल थे ।

 

 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.