आईआरएस अफसर गिरफ्तार, फर्जी आईडी से यूपीएससी परीक्षा की थी पास…जाने क्या है पूरा मामला

नई दिल्ली 11 अक्टूबर 2019। सीबीआई ने गलत पहचान से यूपीएससी परीक्षा में बैठने के आरोपी आईआरएस अफसर को गिरफ्तार को किया है। 2007 बैच के आईआरएस अधिकारी नवनीत कुमार को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है। कुमार पर जाली शैक्षिक प्रमाण पत्र के आधार पर सर्विस ज्वॉइन करने और यूपीएससी परीक्षा में अलग पहचान के साथ बैठने के आरोप हैं।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

सीबीआई ने अधिकारी के खिलाफ यूपीएससी परीक्षा देने के लिए फर्जी दस्तावेज का इस्तेमाल करने के लिए मामला दर्ज किया है। बताया गया है कि 2007 बैच के आईआरएस अधिकारी नवनीत कुमार ने परीक्षा पास करने के लिए फर्जी जन्म और शैक्षणिक प्रमाण जमा कराया था।

बताया गया है कि नवनीत कुमार का असल नाम राजेश कुमार शर्मा है। 2007 में अधिक उम्र होने के कारण परीक्षा में बैठने के लिए अयोग्य थे। नवनीत कुमार का जन्म 15 जून 1980 में हुआ था और उन्होंने 1996 में हाईस्कूल, 2003 में इंटरमीडिएट और 2008 में स्नातक की परीक्षा पास किया था। जब राजेश कुमार शर्मा यूपीएससी की परीक्षा के लिए उम्र की योग्यता को पूरा नहीं कर पा रहे थे तो उन्होंने नाम बदलकर प्रमाण पत्र हासिल कर लिए। इसमें पिता का नाम और पता में कोई बदलाव नहीं किया गया था। जब बेतिया के ग्राम प्रधान और अन्य लोगों से पूछताछ की गई तो पता चला कि राजेश कुमार शर्मा ने नवनीत कुमार नाम बाद में अपनाया है।

सीबीआई ने कहा है कि उनके खिलाफ फर्जी दस्तावेज का इस्तेमाल कर सरकारी नौकरी हासिल करना, धोखाधड़ी करना, पहचान छुपाना आपराधिक मामला दर्ज किया गया है।

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.