आईपीएस में अब होगी सर्जरी, बस्तर, दुर्ग आईजी समेत कुछ जिलों के एसपी बदलेंगे, पुलिस मुख्यालय के अफसर भी होंगे प्रभावित

रायपुर, 1 नवंबर 2019। नए चीफ सिकरेट्री की नियुक्ति के साथ ही कल मंत्रालय के कुछ सचिवों के प्रभार में सरकार ने फेरबदल किए। इसके बाद अब आईपीएस की बारी है। हालांकि, आईपीएस की लिस्ट पिछले महीने ही निकलने वाली थी। लेकिन, बस्तर के चित्रकोट उपचुनाव के चलते सरकार ने फेरबदल को स्थगित कर दिया था।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

दरअसल, बस्तर आईजी विवेकानंद को वहां ढाई साल से अधिक हो गया है। वे विधानसभा चुनाव से छह महीने पहले वहां आईजी बनाकर भेजे गए थे। विधानसभा, लोकसभा चुनाव के साथ अलग-अलग डेट में दो उपचुनाव भी हो गए हैं। इसलिए, सरकार उन्हें वापस बुलाएगी।

हालांकि, दुर्ग के अलावा कोई पुलिस रेंज खाली नहीं है। चूकि, वे बस्तर से आ रहे हैं तो सरगुजा तो सरकार उन्हें भेजेगी नहीं। रायपुर में हाल ही में सरकार ने डा. आनंद छाबड़ा को आईजी बनाया है। बिलासपुर में प्रदीप गुप्ता का ठीक चल रहा है। वैसे भी, विवेकानंद कम दिनों के लिए ही सही बिलासपुर के आईजी रह चुके हैं। दुर्ग में हिमांशु गुप्ता एडीजी प्रमोट होने के बाद भी अफसरों की कमी के चलते रेंज संभाले हुए हैं। समझा जाता है, सरकार विवेकानंद को दुर्ग का आईजी बना सकती है। आईजी लेवल पर अफसरों की पहले से ही काफी टोटा है। सूबे में पांच पुलिस रेंज हैं। इनमें से सरगुजा को छोड़कर बाकी चारों में आरआर आईजी हैं। सिर्फ सरगुजा आईजी केसी अग्रवाल प्रमोटी आईपीएस हैं। वो भी कुछ महीनों में रिटायर होने वाले हैं। सरकार के पास एक्सट्रा में केवल एक आईजी हैं। दिपांशु काबरा। काबरा अभी पुलिस मुख्यालय में हैं।

आईजी के साथ ही सरकार कुछ जिलों के पुलिस कप्तान भी बदलने जा रही है। सूत्रों का कहना है, आईजी, एसपी समेत करीब आठ से नौ आईपीएस बदलेंगे। इनमें पुलिस मुख्यालय के भी कुछ आईपीएस शामिल हैं। पुलिस हाउसिंग कारपोरेशन के एमडी और चेयरमैन, दोनों चार्ज अभी डीजीपी डीएम अवस्थी के पास है। पीएचक्यू के किसी आईपीएस को सरकार एमडी का चार्ज देगी। हालांकि, पीएचक्यू में बड़ा बदलाव इस महीने 30 नवंबर को होगा, जब डीजी जेल बीके सिंह रिटायर होंगे। तब डीजी लेवल के किसी आईपीएस को जेल और होमगार्ड की कमान सौंपी जाएगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.