ईओडब्लू ने 16 अफसर-कर्मचारियों के खिलाफ शिकायतों में दर्ज की एफआईआर; 90 पेंडिंग केस की जांच में भी तेजी

रायपुर, 7 नवंबर 2019। ईओडब्लू ने 16 अधिकारी-कर्मचारियों के खिलाफ शिकायतों की जांच के बाद एफआईआर दर्ज किया है। राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद पहली बार इतने बड़े पैमाने पर एफआईआर किए गए हैं। अब इन मामलों की जांच कर पुख्ता सबूत जुटाए जाएंगे। इसके बाद ताबड़तोड़ छापेमारी शुरू की जाएगी। किन अधिकारी-कर्मचारियों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं, उसे गोपनीय रखा गया है, जिससे संबंधित पक्ष अपराध को छिपाने या सबूत नष्ट करने की कोशिश न कर सकें। ईओडब्लू-एसीबी के एडीजी जीपी सिंह का कहना है कि गंभीर शिकायतों के परीक्षण और दो लेयर की स्क्रीनिंग के बाद केस रजिस्टर किया गया है। सभी मामलों में साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं, जिससे पुख्ता कार्रवाई हो सके।
बता दें कि कांग्रेस की सरकार बनने के बाद नागरिक आपूर्ति निगम में हुए घोटाले की नए सिरे से जांच चल रही है। इसमें तत्कालीन स्पेशल डीजी मुकेश गुप्ता और उनकी स्टेनो रेखा नायर का मामला है। हालांकि कोर्ट के आदेश के बाद मुकेश गुप्ता के मामले की जांच ढीली पड़ गई है, लेकिन रेखा नायर के खिलाफ जांच जारी है। इसके अलावा ई-टेंडरिंग घोटाले की भी जांच चल रही है। इसके अलावा करीब 90 मामले पेंडिंग हैं। इन मामलों की जांच में भी तेजी लाई गई है।
चुनिंदा केस की ही समीक्षा
ईओडब्लू में दर्ज मामलों की समीक्षा की व्यवस्था में बदलाव किया गया है। अब केस की गंभीरता के आधार पर अपडेट रिपोर्ट ली जा रही है। पहले सभी मामलों की एक साथ समीक्षा होती थी। अब केस और उसकी जांच करने वाले अफसर को बुलाकर जांच की बिंदुवार समीक्षा की जा रही है, जिससे बेहतर ढंग से जांच हो और कोई कमी न रहे।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.