शिक्षाकर्मियों को जरूर मिलेगा न्याय, संविलियन के लिए करूँगा पहल – विधायक यू डी मिंज

जशपुर 8 नवंबर 2019. सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले शिक्षाकर्मी एक बार फिर अपने संविलियन की मांग को लेकर मुखर हैं और प्रदेश संयोजक विवेक दुबे के नेतृत्व में संविलियन अधिकार मंच ने अब एक सुनियोजित रणनीति के तहत सरकार में शामिल विधायकों तक अपनी बात पहुंचाने का जरिया चुना है इसके लिए प्रदेश के सभी जिले में संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मी विधायकों को मिलकर अपने संविलियन की मांग को लेकर ज्ञापन सौंप रहे हैं । इसी क्रम में कुनकुरी के कद्दावर विधायक यू डी मिंज को संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मियों ने ज्ञापन सौंपा और अपने संविलियन की गुहार लगाई ।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

उन्होंने विधायक को बताया की संविलियन न होने के चलते उन्हें तमाम प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है यहां तक कि उन्हें समय पर वेतन तक नसीब नहीं होता है ,विगत 3 वर्षों से शिक्षाकर्मियों को महंगाई भत्ता तक नहीं दिया गया है ऐसे में उनके वेतन में इजाफा तक नहीं हो पा रहा है । प्रदेश में जब सभी कर्मचारियों के लिए स्थानांतरण नीति लागू की गई तो वहां पर भी शिक्षाकर्मियों को ठगा सा रहना पड़ गया ऐसे में इन सारी समस्याओं का एकमात्र हल संविलियन ही है और यह कांग्रेस का वादा भी है जो उन्होंने जन घोषणा पत्र में प्रमुखता से किया था । शिक्षाकर्मियों की बात को ध्यान से सुनने के बाद कुनकुरी विधायक यू डी मिंज ने कहा कि वह उनके सभी जायज मांगों को लेकर उनके साथ हैं और स्वयं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी से इस संबंध में चर्चा करेंगे । यही नहीं, एक कदम आगे बढ़कर उन्होंने शिक्षाकर्मियों के प्रतिनिधिमंडल को रविवार को मुख्यमंत्री के जशपुर आगमन पर मिलवाने का भी आश्वासन दिया, स्थानीय समस्याओं के समाधान के लिए भी उन्होंने त्वरित कार्रवाई करते हुए स्थानीय अधिकारियों को निर्देश दिया है ।

विधायक को ज्ञापन सौंपने वाले प्रतिनिधिमंडल में अमित कुमार जैन, नीतू पाठक, राजकुमारी सोनी, अर्चना मिंज, उत्तम यादव , चितरंजन सिंह, अंजू सिंह, महेश पांडे, संजय कंसारी, उमेश चंद पटेल, सुशीला खलखो, संजय कुमार कुजूर , कल्पना पांडे, भतेन्द्रजीत सिंह, दयाशंकर बेहरा , शंकर लाल पैंकरा , धनेश्वर कुमार चंद्रा, प्रीति साहू, पितांबर खूटे, अजय चंद्रा , दुर्गा जलछत्री , दीपशिखा लकड़ा , सोनू राम साहू, इंद्र एक्का, सुनीता बेक , अमृता केरकेट्टा, जुबेल टोप्पो, अरुणा लकरा समेत अनेक शिक्षाकर्मी शामिल थे ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.