कलेक्टर को झुकना पड़ा, इंजीनियर प्रकरण में जताया खेद, अभियंता संघ ने आंदोलन लिया वापस

कांकेर, 11 अक्टूबर 2019। कांकेर कलेक्टर केएल चौहान को इंजीनियर के प्रकरण में आखिरकार झुकना पड़ा। उन्होंने पीडब्लूडी के इंजीनियर प्रकरण में खेद व्यक्त किया है। कलेक्टर के खेद प्रगट करने के बाद अभियंता संघ ने धरना, प्रदर्शन समाप्त कर दिया है।
ज्ञातव्य है, सीएम के कार्यक्रम में लापरवाही करने के मामले में कलेक्टर चौहान ने पीडब्लूडी के ईई को फटकार लगाई थी। इस पर उसने कलेक्टर को जवाब दे दिया। इससे कलेक्टर भड़क गए। उन्होंने इंजीनियर को पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस इंजीनियर को थाने ले जाकर बिठा लिया। सीएम को रायपुर के लिए रवाना होने के बाद ईई को थाने से छोड़ा गया।
आम सभा के मंच के पीछे वीआईपी के लिए ग्रीन रुम और टॉयलेट बनाया जाता है। ईई डी राम ने 30 सितंबर को गढ़िया महोत्सव में गल्ती दोहराते हुए उसमें ऐसा झिना पर्दा लगवा दिया कि वीआईपी उसका यूज ही नहीं कर सकते। बाहर से पूरा दिख रहा था। सीएम की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस अधिकारी भी नाराज हुए। ईई ने इससे एक हफ्ता पहले कांकेर में ही सीएम के कार्यक्रम में यही चूक की थी। और, कलेक्टर के बोलने पर उसने लिखित में क्षमा मांगी थी। लेकिन, जब दूसरी बार उसने यही गल्ती की तो कलेक्टर आपे से बाहर हो गए।
इसके बाद सर्वआदिवासी समाज और अभियंता संघ ने कलेक्टर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। बाद में सरकारी अधिकारी, कर्मचारी संघ भी इसमें कूद पड़ा। हालांकि, कलेक्टर के खेद प्रगट करने के बाद अभियंता संघ ने मामले को खतम करने का ऐलान किया है।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.