EXCLUSIVE वीडियो: रानीतरई के मेले में पहुँचे CM भूपेश बघेल.. लोगों से मिले.. राउत नाचा का लिया आनंद .. NPG से बोले “यह हमारी संस्कृति.. हमारा परिवेश है.. समय बदलता है लेकिन परिवेश नहीं”

पाटन,4 नवंबर 2019। मंडाई याने मेले का भी व्यापक स्वरुप जो मध्य छत्तीसगढ़ के कई इलाक़ों में दीपावली के बाद आयोजित होता है, कभी इन मंडाई के ज़रिए दैनिक दैनंदिनी से लेकर कृषि से जुड़ी चीजों की ख़रीददारी होती थी, तो वहीं यह मड़ई लोगों के बीच मुलाकात और रिश्तों को गहरा करने के मौक़े थे, स्वरुप अब भले बदल गया हो लेकिन मड़ाई की परंपरा नहीं बदली है। मध्य छत्तीसगढ़ ईलाके में सबसे बड़ी और दीवाली के बाद सबसे पहली मंडाई होती है पाटन ईलाके के रानीतरई में। इस मंडाई से CM भूपेश बघेल का गहरा जूड़ाव है, ऐसा कोई वर्ष नहीं जबकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस मंडाई नहीं पहुँचे हों।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

बतौर मुख्यमंत्री यह पहला मौक़ा था, जबकि वे रानीतरई के मंडाई में पहुँचे।उसी सहज अंदाज मिजाज के साथ CM भूपेश बघेल मंडाई में घूमते रहे, रास्ते में मिलने वाले हर शख़्स का यथोचित अभिवादन किया। बुजुर्गों के पाँव छूए तो बच्चों से पढ़ाई को लेकर पूछा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मंच पर गए, और राउत नाचा दल को मंच पर ही आमंत्रित किया और देर तक उनके नाच को देखते रहे। इस दौरान NPG से उन्होंने चर्चा की और मंडाई से जुड़ी अपनी यादों को साझा किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से बात की हमारे सहयोगी याज्ञवल्क्य ने –

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.