दिल्ली में महिलाओं के लिए बसों का सफर हुआ मुफ्त…ट्विटर पर केजरीवाल बोले… सुरक्षा में लगे 13 हजार मार्शल

नई दिल्ली 29 अक्टूबर 2019 दिल्ली सरकार ने महिलाओं को भैया दूज के अवसर पर मंगलवार से दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) और कलस्टर बसों में ‘मुफ्त यात्रा’ की सुविधा शुरू हो गई है। इस मौके पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा है कि आज सुबह से दिल्ली में महिलाओं की बस यात्रा मुफ्त हो गई है। महिला सुरक्षा, सशक्तिकरण और अर्थव्यवस्था में महिलाओं की हिस्सेदारी को बढ़ाने की ओर ये एक ऐतिहासिक कदम है।  इस विषय पर मेरे विचार मैं देश के सामने आज सुबह 11 बजे AK App द्वारा रखूंगा। आप सब जरूर देखें।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

महिलाओं को बस में मुफ्त सफर की व्यवस्था अगले वर्ष मार्च तक के लिए अमल में रहेगी। साथ ही उनकी सुरक्षा के लिए बसों में 13 हजार मार्शल भी तैनात रहेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया था कि 29 अक्टूबर यानी भैया दूज से डीटीसी और कलस्टर बसों में महिलाएं मुफ्त यात्रा कर सकेंगी।

केजरीवाल ने बताया कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए दिल्ली सरकार बसों में 13 हजार मार्शलों की तैनाती भी करेगी । इन मार्शलों की भतीर् की जा चुकी है। मुख्यमंत्री ने बताया कि डीटीसी और कलस्टर बसों में यात्रा करने वाले कुल यात्रियों में एक तिहाई महिलाएं होती हैं और सरकार के इस फैसले से इन सभी को फायदा होगा।

उन्होंने बताया कि महिलाओं को बसों में मुफ्त यात्रा के लिए गुलाबी रंग का एकल यात्रा का पास लेना होगा। यह पास बस संवाहक से ही मिल जायेगा। महिला यात्री को पास के लिए कोई भुगतान नहीं करना होगा । यह पास दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में चलने वाली डीटीसी की एयरकंडीशन और गैर एयर कंडीशन बसों के अलावा कलस्टर बसों में भी मान्य होगा।

मुख्यमंत्री ने बताया कि बस में मुफ्त सफर के लिए महिला का दिल्ली का निवासी होना भी जरुरी नहीं है । यह योजना फिलहाल अगले वर्ष मार्च तक लागू की गई है। महिला यात्रियों को मुफ्त में सफर के लिए डीटीसी को घाटा नहीं हो इसके लिए दिल्ली सरकार इस पास के एवज में 10 रुपए का भुगतान करेगी। योजना के तहत रोजाना 10 लाख गुलाबी पास जारी किए जायेंगे। डीटीसी के बेड़े में लगभग 3800 बसें हैं जबकि कलस्टर सेवा के तहत 1600 से अधिक बसें प्रचलन में हैं। डीटीसी में रोजाना औसतन 31 लाख और कलस्टर बसों में 12 लाख यात्री यात्रा करते हैं जिनमें से करीब एक तिहाई महिलाएं हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.