अम्बेडकरवादी साहित्य सम्मेलन का आयोजन 8 व 9 नवम्बर को बैंकॉक थाईलैंड में…कवयित्री प्रतिमा नंदेश्वर को साहित्यिक योगदान के लिए दिया जायेगा सम्मान

नागपुर 1 नवंबर 2019। विश्व अम्बेडकरवादी साहित्य महामंडल द्वारा पहली बार अम्बेडकरवादी साहित्य सम्मेलन का आयोजन 8 एवं 9 नवम्बर को बैंकॉक थाईलैंड में होने जा रहा है। दो दिवसीय सम्मेलन बैंकॉक स्थित ‘सनबीन’ हॉटेल में होगा। इस ऐतिहासिक सम्मेलन के आयोजन में स्वागताध्यक्ष के रूप में पुणे के राज्यसभा के सांसद अमर साबले तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में मलेशिया के विश्वप्रख्यात प्रसिद्ध लेखक टी. पंजामूर्ति उपस्थित रहेंगे। साथ ही मुख्य अतिथि के रूप में भारत के पूर्व न्यायाधीश के.जी. बालाकृष्णन भी उपस्थित रहेंगे।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

सम्मेलन में साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लेखकों का सम्मान भी किया जाएगा। साहित्य सम्मेलन में चंद्रपुर जिले महाराष्ट्र के आने वाले मूल तहसील की कवयित्री प्रतिमा नंदेश्वर को उनके द्वारा किये गए साहित्यिक योगदान के लिए सम्मान भी प्रदान किया जाएगा। साहित्य के क्षेत्र में डॉ. बाबासाहब अम्बेडकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार की घोषणा समिति की अनुशंसा पर की गई है। इस अवसर पर प्रतिमा नंदेश्वर की ‘अर्पण’ एवं ‘भरारी’ दो कविता संग्रह का प्रकाशन किया जाएगा। इनके दोनों कविता संग्रह की प्रस्तावना को मराठी बहुउद्देश्यीय संस्था नागपुर के अध्यक्ष, संस्थापक, अध्यक्ष, संपादक, मुख्य प्रशासक व प्रकाशक राहुल पाटिल ने लिखा है।

मराठी साहित्य देश विदेश में बहुत तेजी से फैल रहा है। मराठी साहित्य ने ही दलित साहित्य को समृद्ध किया और सामाजिक न्याय की दिशा में अपने योगदान से पूरे देश को आश्चर्यचकित किया। इसी कड़ी में चंद्रपुर जिले की कवियत्री प्रतिमा नंदेश्वर को डॉ आंबेडकर अंतरराष्ट्रीय सम्मान से नवाजा जा रहा है। मिशनरी अम्बेडकरवादी परिवार से ताल्लुक रखने वाली  प्रतिमा नंदेश्वर ने अपने घर परिवार में भी अम्बेडकरी चेतना का प्रचार प्रसार किया है। परिवार के सभी सदस्य डॉ. अम्बेडकर के सामाजिक न्याय की दिशा में कार्य कर रहें हैं। निश्चित रूप से मिलने वाला यह अंतरराष्ट्रीय सम्मान मराठी साहित्य परिवार के लिए गौरान्वित पल है। प्रतिमा नंदेश्वर को मिलने वाले सम्मान से देश के साहित्य प्रेमियों में खुशी की लहर है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.