Home ब्यूरोक्रेट्स कलेक्टर समेत 3 IAS अफसरों की छुट्टी…. माइनिंग घोटाले में CBI छापे...

कलेक्टर समेत 3 IAS अफसरों की छुट्टी…. माइनिंग घोटाले में CBI छापे के बाद हुआ एक्शन…..यूपी सरकार ने बिना विभाग के मंत्रालय किया अटैच, निलंबन भी तय

0

लखनऊ 11 जुलाई 2019। घोटालों में नाम आने के बाद एक कलेक्टर समेत 3 IAS अफसरों की विभागों से छुट्टी हो गयी है। तीनों IAS अफसरों को हटाकर बिना विभाग के ही मंत्रालय अटैच कर दिया गया है। इन अफसरों में उत्तरप्रदेश में खनन घोटाले की सीबीआई जांच की जद में आए बुलंदशहर के डीएम अभय सिंह भी शामिल हैं, जिनके ठिकानों पर पिछले दिनों ही CBI की टीम ने छापा मारा था। योगी सरकार ने कलेक्टर अभय सिंह, आजमगढ़ के मुख्य विकास अधिकारी देवीशरण उपाध्याय और कौशल विकास मिशन और प्रशिक्षण और सेवायोजन विभाग के निदेशक विवेक कुमार को हटाकर वेटिंग लिस्ट में डाल दिया है।

सीबीआई ने बुधवार सुबह बुलंदशहर के डीएम अभय सिंह के आवास और आईएएस विवेक के लखनऊ स्थित आवास पर छापेमारी की थी। अभय 2007 बैच के आईएएस हैं। राजस्थान के रहने वाले अभय को यूपी कैडर मिला। उन्होंने कंप्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी। इसके अलावा आजमगढ़ के सीडीओ देवीशरण उपाध्याय के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। इसकी सूचना मिलने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय तुरंत ऐक्टिव हो गया और तीनों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए। अभय सिंह की जगह \Bरविन्द्र कुमार-11 \Bको बुलंदशहर का नया डीएम बनाया गया है। देर शाम नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग ने डीएम के तौर पर उनकी नियुक्ति के आदेश जारी कर दिए। रविन्द्र कुमार राज्य पोषण मिशन के निदेशक पद पर तैनात थे।

कौशल विकास मिशन और प्रशिक्षण और सेवायोजन विभाग के निदेशक विवेक कुमार 2009 बैच के IAS अफसर हैं। वहीं देवीशरण उपाध्याय पीएससी अफसर से IAS प्रमोट हुए हैं।

आपको बता दें कि बुधवार को बुलंदशहर के डीएम अभय सिंह, कौशल विकास विकास मिशन के एमडी आईएएस विवेक कुमार के अलावा सीडीओ आजमगढ़ आईएएस देवी सरन उपाध्याय के घर समेत 12 ठिकानों पर छापे मारे थे। सीबीआई ने छापे की कार्रवाई बुलंदशहर, लखनऊ, फतेहपुर, आजमगढ़, प्रयागराज(इलाहाबाद), नोएडा, गोरखपुर, देवरिया सहित 12 ठिकानों पर एक साथ की। डीएम बुलंदशहर के सरकारी आवास से 47 लाख रुपये और सीडीओ आजमगढ़ के घर से 10 लाख रुपये कैश बरामद हुए हैं। सीबीआई ने डीएम बुलंदशहर, आईएएस विवेक और सीडीओ आजमगढ़ के अलावा पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति, आईएएस जीवेश नंदन, आईएएस संतोष कुमार समेत कुल 14 के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। मुख्यमंत्री ने इस मामले में सख्त रुख अपनाया है। माना जा रहा है तीन अधिकारियों को निलंबित किया जाएगा।