Home ब्यूरोक्रेट्स पीलिया की शिकायत पर निगम और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने की...

पीलिया की शिकायत पर निगम और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने की निगरानी, पीलिया जैसी हालात नहीं फिर भी कल

0

रायपुर 14 जून 2019। कमिश्नर शिव अनंत तायल के निर्देश पर नगर निगम, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम व महामारी नियंत्रण सेल ने एक साथ कुशालपुर क्षेत्र के तुलसी नगर में पीलिया की शिकायत मिलते ही तत्काल अपनी कार्यवाही शुरू कर दी। जल परीक्षण में आपूर्ति की जा रही पानी की गुणवत्ता पूरी तरह से तय मानकों के अनुरुप पाई गई है, अतः प्राथमिक तौर पर संभावना है कि पीड़ित बच्चे छुट्टियों के बाद किसी दूसरे गांव से लौटे हैं, जहां दूषित पेय या खाद्य का सेवन किया होगा। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 7 बच्चों में पीलिया के लक्षण पाए गए हैं, जिनमें से दो बच्चों को नारायणा अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती किया गया है। जिनकी स्थिति भी सामान्य व पूरी तरह से खतरे से बाहर है। शेष बच्चों को घर पर ही चिकित्सकों की निगरानी में दवा दी जा रही है। इस क्षेत्र में पीलिया संक्रमण के हालात नही है और स्थिति पूरी तरह से सामान्य व नियंत्रण में हैै। कल शनिवार से इस क्षेत्र में एहतियात के तौर पर स्वास्थ्य शिविर का संचालन भी होगा। महापौर प्रमोद दुबे ने आला अधिकारियों से इस संबंध में पूरी जानकारी लेकर दिशानिर्देश दिए हैं।

नगर निगम की सूचना पर स्वास्थ्य विभाग व महामारी नियंत्रण प्रकोष्ठ का अमला आज सुबह ही कुशालपुर के तुलसी नगर क्षेत्र का भ्रमण कर क्षेत्र में बीमार मरीजों का सर्वेक्षण शुरु कर दिया, जिसके लिए विभाग ने अपने चिकित्सकों के साथ पैरामेडिकल स्टाफ को लगा कर घरों में जाकर मरीजों का परीक्षण किया। नगर निगम ने अपने जोन अधिकारियों के साथ सफाई व लैब टेक्नीशियन को भी इस क्षेत्र में तैनात कर अपनी संपूर्ण व्यवस्था की गहन निगरानी शुरु कर दी है।

कमिश्नर तायल के निर्देश पर नगर निगम के अपर आयुक्त लोकेश्वर साहू के साथ राज्य शहरी विकास अभिकरण (सूडा) के अधिकारियों ने तत्काल तुलसी नगर क्षेत्र का निरीक्षण कर क्षेत्रवासियों से मुलाकात की। सूडा के अधिकारी चन्द्रवंशी, डाॅ. अमृत चोपड़ा , पार्षद रमेश ठाकुर के साथ जोन क्र. 6 के कमिश्नर विनय मिश्रा, सहायक अभियंता  बद्री चंद्राकर, स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. बी.के. मिश्रा अपने अमले के साथ पहुंचकर सघन जांच शुरु की। इस क्षेत्र में सभी नालियों की पुनः सफाई कर दवा का छिड़काव किया गया। जल कार्य विभाग की टीम ने जल की गुणवत्ता का परीक्षण करने के लिए अपने मोबाइल लैब को तकनीशियन के साथ इस क्षेत्र पर तैनात कर दिया है।

क्षेत्र में क्लोरीन टेबलेट का भी वितरण किया जा रहा है। जोन की टीम सभी नए व पुराने पाइप लाइन की नए सिरे से जांच कर रही है और जहां पर भी सुधार की आवश्यकता होगी, उसे तत्काल दुरुस्त करेगा। कमिश्नर श्री तायल ने सभी जोन को बर्फ फैक्ट्री की निरंतर जांच के निर्देश दिए हैं और फेरी लगाकर बर्फ गोले बेचनेवाले की भी निगरानी नगर निगम ने शुरू कर दी है। उन्होंने सभी जोन कमिश्नर को पानी की गुणवत्ता की नियमित जांच करते रहने के लिए भी निर्देशित किया है।