Home राजनीति पीएम पद की शपथ से पहले मां हीराबेन से मिलने पहुँचे नरेंद्र...

पीएम पद की शपथ से पहले मां हीराबेन से मिलने पहुँचे नरेंद्र मोदी, पैर छूकर लिया आशीर्वाद

0

 

अहमदाबाद 26 मई 2019 दूसरी बार सत्ता पाने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पहली बार अपने घर गुजरात पहुंचे हैं। प्रचंड जीत के बाद अपनी मां हीराबेन का आशीर्वाद लेने पीएम मोदी उनके घर गांधीनगर पहुंचे हैं। इस समय पीएम मोदी घर पर मां हीराबेन से मिल रहे हैं। इससे पहले जब मोदी अहमदाबाद एयरपोर्ट आए उस दौरान मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और पूरी गुजरात कैबिनेट ने उनका जोरदार स्वागत किया। इसके बाद पीएम मोदी खानपुर में बीजेपी के उस दफ्तर में गए जहां से उनकी यादें जुड़ी हैं। मोदी ने कभी यहीं से अपनी सियासत की शुरूआत की थी, वो संघ से बीजेपी में आए थे। बीजेपी दफ्तर में मोदी और शाह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

 

लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद मां हीराबेन का आशीर्वाद लेने गांधीनगर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
अब मां हीराबेन से मिलने जा रहे हैं प्रधानमंत्री मोदी

– रैली में मौजूद लोगों ने अपने मोबाइल फोन का फ्लैश लाइट जलाकर पीएम मोदी का अभिवादन किया

बड़ा जनादेश बड़ी जिम्मेदारियां लाता है। इतनी बड़ी जीत के मद्देनजर विनम्र बने रहना महत्वपूर्ण है, हमें इन पांच वर्षों का उपयोग आम नागरिकों के मुद्दों को हल करने के लिए करना है। ये 5 साल सर्वांगीण विकास के लिए होंगे। हमें विश्व स्तर पर भारत को और आगे बढ़ाना होगा, आने वाले 5 साल जन-भागीदारी और जनचेतना के लिए होंगे: पीएम मोदी

 

– ये चुनाव ना मैंने लड़ा, ना बीजेपी, देश ने लड़ा, 2019 का चुनाव पूरे देश ने लड़ा, चुनाव प्रचार के पहले तीन दिनों के भीतर ही मुझे विश्वास हो गया था कि बीजेपी या एनडीए चुनाव नहीं चल रही, देश की जनता चुनाव लड़ रही है: पीएम मोदी

– छठे चरण के मतदान के बाद मैंने खुद ही कहा था कि हमें 300 से ज्यादा सीटें मिल रही हैं। जब मैंने कहा तो लोगों ने मेरा मजाक उड़ाया लेकिन नतीजे सभी के सामने हैं। इतना बड़ा जनादेश दिया जाना ऐतिहासिक है। लोगों ने तय किया था कि वे फिर से एक मजबूत सरकार चाहते हैं: पीएम मोदी

– 2019 में सारे चुनावी पंडित गलत साबित हुए, 300 सीट की बात सुनकर लोग मजाक उड़ाते थे, छठे चरण के बाद मैंने कहा था 300 पार करेंगे: पीएम मोदी

– मेरी पूरी जिंदगी इसी दफ्तर में गुजरी, 2014 में आपने ने मुझे विदाई दी थी, 2014 में जब यहां से गया तो आंखें नम थी, कर्तव्य की मांग थी जो जाना पड़ा: पीएम मोदी

– वक्त की कमी के चलते कार्यक्रम नहीं टाल पाए, मां का आशीर्वाद लेना भी जरूरी है। मैं आप लोगों का दर्शन करने आया हूं, आपका आशीर्वाद मेरी शक्ति है: पीएम मोदी

– मैं कल से दुविधा में था कि मुझे इस कार्यक्रम में शामिल होना चाहिए या नहीं। एक तरफ, कर्तव्य था और दूसरी तरफ, करुणा की भावना थी। सूरत में कई परिवारों की आशाएं चकनाचूर हो गईं: पीएम मोदी

– सूरत में कई घरों के दीप बुझ गए जितना भी दुख जाहिर करूं कम है, परमात्मा पीड़ित परिवारों को हिम्मत दे: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी