Home ब्यूरोक्रेट्स IAS मोहम्मद मोहसिन को इलेक्शन कमीशन ने वापस कर्नाटक भेजा….. कर्नाटक CEO...

IAS मोहम्मद मोहसिन को इलेक्शन कमीशन ने वापस कर्नाटक भेजा….. कर्नाटक CEO दफ्तर में किया अटैच….PM मोदी के काफिले की तलाशी ली थी IAS मोहसिन ने

0

नयी दिल्ली 21 अप्रैल 2019। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले की तलाशी लेने की कोशिश के मामले में सुर्खियों में आये IAS मोहम्मद मोहसिन को वापस कर्नाटक भेज दिया गया है। पीएम मोदी के संबलपुर दौरे के दौराने उनके काफिले की तलाशी लेने की कोशिश की शिकायत के बाद मुख्य निर्वाचन आयोग ने सस्पेंड कर संबलपुर के चुनाव कार्यालय में अटैच कर दिया था।

इस पूरे मामले के पक्ष-विपक्ष को लेकर पूरे देश में नयी बहस छिड़ गयी थी। इसी बात कार्रवाई के 5 दिन बाद इलेक्शन कमीशन ने मोहम्मद मोहसिन को मामूली सी राहत देते हुए उन्हें वापस कर्नाटक भेज दिया, जहां वो अब कर्नाटक के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के दफ्तर में अटैच होंगे। इससे पहले उन्हें संबलपुर में ही अटैच कर दिया गया था।

इससे पहले कर्नाटक कैडर के IAS मोहम्मद मोहसिन ने संबलपुर में जनरल ऑब्जर्वर रहते 16 अप्रैल को ही पीएम मोदी के काफिले के एक वाहन की तलाशी की कोशिश की थी। इस मामले में चुनाव आयोग या सरकार ने आधिकारिक रूप से कोई जानकारी नहीं दी है, लेकिन बताते हैं कि अचानक हुई तलाशी की वजह से प्रधानमंत्री मोदी को 15 मिनट तक रुके रहना पड़ा था। इसकी शिकायत संबलपुर के निर्वाचन पदाधिकारी और संबलपुर के आईजी ने इलेक्शन कमीशन को की थी। जिसके बाद इलेक्शन कमीशन ने एक्शन लिया।

कहा जा रहा है कि निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों से अलग अधिकारी ने कार्रवाई की थी. एसपीजी सुरक्षा प्राप्त लोगों को ऐसी जांच से छूट प्राप्त होती है.

मोहसिन साल 1996 बैच के कर्नाटक कैडर के आईएएस अफसर हैं, जिन्हें जनरल ऑब्जर्वर के तौर पर नियुक्त किया गया था. बता दें कि भारत निर्वाचन आयोग सभी संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में सामान्य पर्यवेक्षकों की नियुक्ति करता है ताकि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव हो सके. पारदर्शिता और स्थानीय प्रशासन से दूरी सुनिश्चित करने के लिए ये हमेशा राज्य के बाहर के अधिकारी होते हैं.