Home बड़ी खबर राज्यपाल को पत्र लिखने पर शिक्षक को शोकॉज नोटिस दिये जाने पर...

राज्यपाल को पत्र लिखने पर शिक्षक को शोकॉज नोटिस दिये जाने पर BEO ने कहा… “बिना मेरे आफिस से जानकारी लिये ही सीधे लिख दिया राजभवन पत्र….इसलिए जारी किया नोटिस….कमीशन की शिकायत सही निकली तो करवाऊंगा जांच…..जल्द एरियर्स भुगतान का भी दिया आश्वासन”

0

रायपुर/जांजगीर 15 अप्रैल 2019। एरियर्स मांगने के लिए राज्यपाल से गुहार लगाने वाले शिक्षक को BEO  ने शोकॉज नोटिस जारी किया है। एलबी शिक्षक कृष्ण कुमार कश्यप शासकीय हाईस्कूल बोरसी विकासखण्ड बम्हनीडीह जिला जांजगीर-चाम्पा में पदस्थ हैं। कृष्ण कुमार कश्यप ने निम्न पद से अनुमति लेकर उच्च पद में पदभार ग्रहण किया था, नियम के मुताबिक निम्न से उच्च पद का आर्थिक लाभ का प्रस्ताव बम्हनीडीह बीईओ को बनाकर जिला पंचायत के पास भेजना था, लेकिन आरोप है कि बीईओ कार्यालय ने कमीशन को लेकर शिक्षक कृष्ण कुमार कश्यप का प्रकरण जानबूझकर लटका दिया।

इस पूरे मामले में NPG ने बीईओ केके बंजारे से बात की। केके बंजारे के मुताबिक प्रस्ताव बनाकर आवंटन के लिए भेज दिया गया है पहले ही, बावजूद जिस तरह से कृष्ण कुमार कश्यप ने बीईओ दफ्तर को बिना विश्वास में लिये राज्यपाल से शिकायत की, वो बेहद आपत्तिजनक है, इसलिए उनके खिलाफ शो काज नोटिस जारी किया गया है।

केके बंजारे ने साफ किया है कि उन्होंने पहले भी कृष्ण कुमार को आश्वस्त किया था कि उनके एरियर्स की राशि की भुगतान करने में मदद करेंगे, लेकिन उन्होंने पत्र में कमीशन का गंभीर आरोप लगा दिया। बीईओ का कहना है कि कमीशन के आरोप पर भी मैंने जवाब मांगा है, कि आखिर ये पैसा किसने, किससे मांगा है। बीईओ ने कहा कि

“देखिये मुझे बदनाम करने की कोशिश है ये पूरी तरह, अगर कोई 15 परसेंट 20 परसेंट मांगा है, तो बतायेंगे ना वो किसने मांगा है कब मांगा है, शो काज में मैं पूछा हूं, कि बताईये किसने पैसा मांगा और अगर सही जानकारी मिली, तो मैं उसकी जांच भी कराऊंगा”

बीईओ बंजारे ने कहा कि..

“कृष्ण कुमार कश्यप RMSA के स्टाफ हैं, सरकार ने पिछले दिनों एक आदेश जारी कर सिर्फ वेतन का भुगतान करने का आदेश दिया था, एरियर्स का आवंटन नहीं मिल रहा था, हालांकि दिक्कत कृष्ण कुमार के RMSA के स्टाफ की वजह से भी आ रही थी, क्योंकि शिक्षा विभाग का बजट रहता है, इसलिए उनकी एरियर्स की राशि निकल गयी, लेकिन चूंकि कृष्ण कुमार RMSA के स्टाफ हैं, इसलिए उनका आवंटन मंगाना पड़ता है। कुछ दिन पहले ही एरियर्स के भुगतान का आदेश आया है, जिसके बाद पूरी प्रक्रिया शुरू की गयी है, मैंने एक बार खुद से बुलाकर कृष्ण कुमार को कहा था कि वो उनका एरियर्स भुगतान करवा देंगे, पिछले काफी महीनों से वो बीईओ आफिस से कोई संपर्क नहीं किया, उलटे आरोप लगा दिया कि कमीशन की मांग की गयी है, ये गलत है और अनुशासनहीनता है। अगर कमीशन लेने और मांगने की बात सही साबित हुई तो निश्चित रूप से ही उसकी जांच की जायेगी और कार्रवाई भी की जायेगी। पर एक बात और है कि किसी का जानबूझकर कोई ऐरियर्स नहीं रोका गया है, आवंटन आते ही उनकी जो 6 से 7 लाख की राशि है उसका भुगतान कर दिया जायेगा”