Home राजनीति प्रतिमा से टिकिट छिनकर ताम्रध्वज को बनाया प्रत्याशी, अब पार्टी ने की...

प्रतिमा से टिकिट छिनकर ताम्रध्वज को बनाया प्रत्याशी, अब पार्टी ने की भरपाई, ज्योत्सना को पति चरणदास की वजह से मिली होली गिफ्ट

0

रायपुर 25 मार्च 2019। देर शाम कांग्रेस ने अपने 2 प्रत्याशियों के नाम का ऐलान कर दिया। इसके साथ ही कांग्रेस ने भाजपा की तरफ अपने सभी 11 में से 11 प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया। कोरबा से ज्योत्सना महंत को टिकट दिया गया है…जबकि दुर्ग के प्रतिमा चंद्राकर को पार्टी ने उम्मीदवार बनाया है। इस लिस्ट में कांग्रेस और भाजपा दोनों ने 2-2 महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारा है।

हालांकि कांग्रेस की जो लिस्ट देर रात जारी हुई, उसमें दोनों नाम बहुत ज्यादा चौकाने वाले नहीं है। प्रतिमा चंद्राकर को जहां दुर्ग ग्रामीण से विधानसभा की टिकट छिने जाने के मुआवजे के तौर पर लोकसभा का टिकट दिया गया है…तो वहीं ज्योत्सना महंत को विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत की पत्नी होने का इनाम मिला है।

विधानसभा में टिकट मिलने के बाद कटा था प्रतिमा का नाम

विधानसभा चुनाव में दुर्ग ग्रामीण से प्रतिमा चंद्राकर का नाम पहले ऐलान कर दिया गया था, लेकिन बाद में उनका टिकट काटकर ताम्रध्वज साहू को पार्टी ने चुनाव मैदान में उतारा था। कहा जा रहा था कि दुर्ग ग्रामीण में जातिगत समीकरण को देखते हुए प्रतिमा चंद्राकर की टिकट को काटकर उनके जगह ओबीसी वर्ग के ताम्रध्वज साहू को प्रत्याशी बनाया गया। जिसके बाद प्रतिमा चंद्राकर ने अपना दर्द पार्टी स्तर पर बयां किया था। उन्होंने राहुल गांधी को सार्वजनिक मंच पर बंद लिफाफे में अपनी पीड़ा लिखकर दी थी। माना जा रहा है कि उसी के कंप्नशेसन के तौर पर पार्टी ने दुर्ग लोकसभा का टिकट उन्हें दिया है। पहले दुर्ग ग्रामीण से प्रतिमा चंद्राकर का टिकट काटकर सांसद ताम्रध्वज साहू को टिकट दिया गया था,….अब ताम्रध्वज साहू का टिकट काटकर दुर्ग से प्रतिमा चंद्राकर को पार्टी ने टिकट दिया है।

Image result for ज्योत्सना महंतचरणदास महंत की पत्नी होने का ज्योत्सना को मिला ईनाम

ज्योत्सना महंत का नाम काफी दिनों से चर्चा में था। हालांकि कहा जा रहा था कि चरणदास महंत यहां से चुनाव लड़ सकते हैं, लेकिन महंत ने धीरे-धीरे कर अपनी पत्नी ज्योत्सना का नाम आगे बढ़ाया और पार्टी ने उसे स्वीकारते हुए उनकी पत्नी ज्योत्सना को टिकट देने को तैयार हो गयी। विधानसभा चुनाव के दौरान भी ज्योत्सना ने प्रचार का जिम्मा संभाला था और उस वक्त से ही लगातार वो कोरबा क्षेत्र में काफी सक्रिय थी। कोरबा से पिछले चुनाव में डॉ. चरणदास महंत चुनाव हार गए थे. 2009 से अस्तित्व में आई कोरबा सीट के पहले चुनाव में डॉ. चरणदास महंत ने भाजपा की करुणा शुक्ला को हटाया था. लेकिन 2014 के चुनाव में महंत भाजपा के बंशीलाल महतो से महज 4 हजार 265 मतों के अंतर से हार गए थे