Home बड़ी खबर अवैध संबंध के चक्कर में हुई ट्रांसपोर्टर की हत्या….कॉस्टेबल ही निकला सूरज...

अवैध संबंध के चक्कर में हुई ट्रांसपोर्टर की हत्या….कॉस्टेबल ही निकला सूरज का हत्यारा….मौत का खुला राज़ तो पुलिस भी रह गयी सन्न

2183
0

दुर्ग 10 फरवरी 2019। … ट्रांसपोर्टर सूरज सिंह की मर्डर मिस्ट्री सुलझी, तो पुलिस भी सन्न रह गयी। ट्रांसपोर्ट कारोबारी का हत्यारा कोई और नहीं, बल्कि पुलिस कांस्टेबल ही निकला। हत्या की वजह अवैध संबंध का शक बताया जा रहा है। इस सनसनीखेज हत्या का खुलासा IG रतनलाल डांगी और SP प्रखर पांडेय की मौजूदगी मे आज दुर्ग पुलिस ने किया।
दरअसल पुलिस इस पूरे मर्डर मिस्ट्री को कारोबारी विवाद से जोड़कर देख रही थी। लिहाज़ा इस हत्या की जांच की दिशा उसी दिशा में मुड़ी हुई थी। इस मिस्ट्री को सुलझाने के लिए सुरज के साथ कारोबारी संबंध रखने वाले दर्जनों लोगों से पूछताछ की गयी थी। वहीं घर आने जाने वाले लोगों के अलावा कुछ काम करने घर आने वाले लोगो से भी पूछताछ की गई थी।

IG डांगी और SP प्रखर पांडेय ने लगातार केस की डेवलोपमेन्ट पर नज़र बनाये रखी।।पुलिस ने इस दौरान सीसीटीवी के जरिये भी सुराग तलाशने की कोशिश की। पुलिस लगातार पूछताछ कर रही थी। इस दौरान ट्रांसपोर्ट व्यवसाय से जुड़े 132 लोगों से पूछताछ की गई, वहीं ट्रांसपोर्टर सूरज सिंह के घर के आसपास रहने वाले एवं मृतक के घर कार्य करने वाले 73 महिला एवं पुरूष से पूछताछ की गई।

सुराग नहीं मिलते देख पुलिस ने 5 हज़ार रुपये के पुरस्कार का एलान किया था। इसी दौरान पुलिस को सूचना मिली कि मृतक सूरज सिंह का संबंध खुर्सीपार में ही रहने वाले आरक्षक रामप्रकाश यादव से था। वो आरक्षक रामप्रकाश के घर भी आया जाया करता था। का मृतक सूरज सिंह के यहां आनाजाना बना था।
घटना के दिन आरक्षक को मृतक सूरज सिंह के साथ देखा गया था।
जिसके बाद आरक्षक रामप्रकाश यादव से पूछताछ की गई, जिसमें रामप्रकाश यादव ने संतोषजनक उत्तर नहीं दिया गया।

लगातार पूछताछ करने पर अन्ततः आरक्षक रामप्रकाश यादव ने बताया कि वह अपनी पत्नी पर शक करता था। जिसकी वजह से मानसिक तनाव में रहता था । इसलिए उसने सूरज सिंह की हत्या कर दी। घटना का वक़्त सूरज घर पर अकेला था। लोहे के हथौड़े से मृतक के सिर पर मारकर उसने हत्या की थी। हत्या के बाद लोहे के हथौड़े और मोबाइल को टैंक में फेंक दिया है। घटना स्थल के निरीक्षण एवं मृतक सूरज सिंह के सिर में आई चोंटों के प्रकार सेे घटना में रामप्रकाश के अतिरिक्त अन्य लोगों के सम्मिलित रहने की संभावना को देखते हुए एक टीम राज्य के बाहर भेजी गई है।