Home राजनीति लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा 38-38 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, कांग्रेस...

लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा 38-38 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, कांग्रेस को अमेठी-रायबरेली

722
0

नईदिल्ली 12 जनवरी 2019। लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी  के बीच महागठबंधन का आधिकारिक ऐलान हो गया है।सपा और बसपा के बीच गठबंधन को लेकर सिर्फ यूपी ही नहीं पूरे देश की सियासत गर्म है। आज बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती व समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव लखनऊ में सपा-बसपा गठबंधन पर साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की। अखिलेश यादव ने कहा था कि यह महागठबंधन लोकसभा चुनाव में भारी जीत दर्ज करेगा। वहीं उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के बीच गठबंधन की घोषणा की संभावना की पृष्ठभूमि में कांग्रेस ने शुक्रवार को कहा कि समान विचार वाले सभी दलों का उद्देश्य देश से ‘कुशासन’ और तानाशाही को खत्म करना है। लेकिन सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य में उसकी किसी भी तरह उपेक्षा करना राजनीतिक रूप से ‘खतरनाक भूल’ होगी।

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कहा कि हम बीती बातें भुलाकर साथ आए हैं. एसपी-बीएसपी के गठबंधन ने जनता को एक नई उम्मीद दी है. हम पिछड़ों, गरीबों और अल्पसंख्यकों की ताकत बनेंगे. बीजेपी ने जनता को धोखा देकर प्रदेश और केंद्र में सरकार बनाई है. हमने बीजेपी को पहले ही उपचुनाव में हरा दिया है. यह गरीबों, मजदूरों, कारोबारियों, युवाओं, महिलाओं, पिछड़ों, दलितों और अल्पसंख्यकों का गठबंधन है.

मायावती ने कहा कि ये प्रधानमंत्री मोदी जी की और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, दोनों गुरु-चेले की नींद उड़ाने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस है. बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा कि सत्ता में कोई भी रहे, नीति एक ही रहती है. उदाहरण के लिए आप देख लीजिए तब भी रक्षा सौदों में भ्रष्टाचार होता था अब भी हो रहा है. कांग्रेस ने तो घोषित तौर पर आपातकाल लगा दिया था लेकिन फिलहाल अघोषित आपातकाल है.

मायावती ने कहा कि मुलायम सिंह यादव और कांशीराम ने मिलकर 1993 में बीजेपी को हराया था. हम भी ऐसा करने जा रहे हैं. उपचुनाव में हमारा गठबंधन बेहद कारगर रहा. बीजेपी को 2019  में सत्ता में आने से रोक सकते हैं. आरएलडी भी होगी महागठबंधन का हिस्सा. मायावती ने कहा कि देशहित को ध्यान में रखकर किया गया है यह गठबंधन बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि हमने तय किया है कि एसपी-बीएसपी आने वाले लोकसभा चुनाव में एक साथ मैदान में उतरेंगे. यह देश में एक नई राजनीतिक क्रांति की शुरुआत होगी.