Home राजनीति सांसद सावित्रीबाई फुले ने छोड़ी बीजेपी, कहा- समाज को तोड़ने का पार्टी...

सांसद सावित्रीबाई फुले ने छोड़ी बीजेपी, कहा- समाज को तोड़ने का पार्टी कर रही है प्रयास

70
0

नईदिल्ली 6 दिसंबर 2018. बहराइच की सांसद सावित्री बाई फुले ने गुरुवार को लखनऊ में भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफे का ऐलान कर दिया। उन्होंने स्पष्ट किया कि वह कार्यकाल पूरा होने तक सांसद रहेंगी। उन्होंने सिर्फ पार्टी से इस्तीफा दिया है। वह लंबे समय से भाजपा संगठन और वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ तीखे बयान देती रही हैं।
सांसद सावित्री बाई फुले गुरुवार को बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर महापरिनिर्वाण दिवस पर लखनऊ के कैपिटल हाल में आयोजित समारोह में बतौर अतिथि शामिल हुईं। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि भाजपा दलित, पिछड़ा व मुस्लिम विरोधी है और आरक्षण खत्म करना चाह रही है। सावित्री बाई फूल ने कहा कि भाजपा देश को मनुस्मृति से चलाना चाहती है। भाजपा देश के संविधान को बदलने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि न तो संविधान लागू किया जा रहा है और न ही आरक्षण। केंद्र सरकार हमारी मांगें नहीं मान रही है क्योंकि सरकार दलित विरोधी है।
भगवान हनुमान को दलित बता ने पर उन्होंने कहा कि हनुमान दलित थे लेकिन मनुवादियों के खिलाफ थे। तभी राम ने उन्हें बंदर बना दिया। उन्होंने कहा, ”पुन: विहिप, भाजपा और आरएसएस से जुड़े संगठनों द्वारा अयोध्या में 1992 जैसी स्थिति पैदा कर समाज में विभाजन एवं सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा करने की कोशिश की जा रही है। इसलिए आहत होकर मैं भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं।’

उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस कर इस्तीफे के पंद्रह कारण गिनाए। अपने बयान में उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार आरक्षण को खत्म करने का ताना बाना बुन रही है। उन्होंने कहा कि वह लगातार प्रदेश व देश के हिस्सों में केंद्र सरकार के सामने अपनी मांगे रखती रही हैं लेकिन उनकी मांगें नहीं मानी गईं। जिससे बहुजन समाज को उसका वाजिब अधिकार नहीं मिल पा रहा। भाजपा की सरकार अल्पसंख्यकों का अहित करने वालों को संरक्षण देती है।