Home राजनीति CM शिवराज के खिलाफ कांग्रेस ने अरुण यादव को चुनाव मैदान में...

CM शिवराज के खिलाफ कांग्रेस ने अरुण यादव को चुनाव मैदान में उतारा… बढ़ सकती है शिवराज की चुनौतियां….कांग्रेस ने 230 में से 229 सीट पर प्रत्याशी किये घोषित…कई उम्मीदवार बदले भी

339
0

भोपाल 8 अक्टूबर 2018। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ कांग्रेस ने अरुण यादव को चुनाव मैदान में उतारा है। अरुण यादव पर कांग्रेस का दांव शिवराज सिंह चौहान के लिए मुश्किल की बात हो सकती है। कांग्रेस में अरुण यादव मध्यप्रदेश में बड़ा नाम है। अरूण यादव मध्यप्रदेश कांग्रेस के पूर्व पीसीसी चीफ रहे हैं। वहीं दो बार वो सांसद भी रह चुके हैं। आज कांग्रेस की जारी हुई आखिरी सूची में कांग्रेस ने अरुण यादव को बुधनी से चुनाव मैदान में उतारा है। बुधनी सीएम शिवराज सिंह की सीट है, जहां से वो चार बार चुनाव जीत चुके हैं।

दरअसल कांग्रेस की कोशिश है कि वो किसी भी कीमत पर मध्यप्रदेश में वाक ओवर बीजेपी को ना दे, लिहाजा शिवराज को उनके ही किले में घेरने की कांग्रेस ने ये मजबूत चाल चली है। आज कांग्रेस 7 प्रत्याशियों की आखिरी सूची जारी की। कांग्रेस ने इस बार कुल 229 प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे हैं, जबकि लोकतांत्रिक जनता दल के लिए एक सीट जातरा की छोड़ी गयी है।

वहीं कांग्रेस ने अपनी आखिरी लिस्ट में तीन प्रत्याशियों को भी बदला है।

 

 

मुख्यमंत्री का सियासी करियर 

शिवराज चौहान सबसे पहले बुधनी से 1990 में विधायक चुने गए थे लेकिन इसके बाद 1991 में अटल बिहारी वाजपेयी के विदिशा लोकसभा सीट छोड़ने के कारण वहां हुए उपचुनाव में जीतकर सांसद बने थे। इसके बाद चौहान 1996, 1998, 1999 और 2004 के लोकसभा चुनाव विदिशा से लगातार जीतते रहे।
साल 2005 उनके लिए बदलाव लेकर आया जब उन्हें मध्यप्रदेश में बाबूलाल गौर को हटाकर मुख्यमंत्री बनाया गया। इसके बाद 2006 में अपनी पुरानी सीट बुधनी से उपचुनाव जीतकर वह प्रदेश विधानसभा के सदस्य बने।
इसके बाद चौहान ने लगातार 2008 और 2013 के विधानसभा चुनाव में बुधनी सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखा। अब 2018 के विधानसभा चुनाव, जिन्हें 2019 के लोकसभा चुनाव का सेमीफाइनल कहा जा रहा है, में भाजपा ने एक बार फिर उन्हें बुधनी से उम्मीदवार घोषित किया है।

बुधनी में चलता है ‘शिवराज का राज’ 

शिवराज सिंह चौहान ने 2006 में बुधनी में कांग्रेस के पूर्व मंत्री राजकुमार पटेल को 36,000 मतों से और 2008 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के महेश सिंह राजपूत को 41,000 मतों से हराया था। पिछले विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री ने कांग्रेस के महेन्द्र सिंह चौहान को 84,000 हजार मतों के अंतर से बुधनी सीट पर कब्जा किया था।