Home राजनीति राजीव भवन के साथ भूपेश बघेल का जुड़ा है अनूठा संयोग……बोले-सपना सच...

राजीव भवन के साथ भूपेश बघेल का जुड़ा है अनूठा संयोग……बोले-सपना सच हुआ, ये लम्हा कभी नहीं भूल पाऊंगा….राहुल गांधी का भी राजीव भवन से है ये रिश्ता पुराना

554
0

रायपुर 9 अगस्त 2018। “जब जमीन आवंटित हो रहा था, उसी वक्त सोचा था कांग्रेस का प्रदेश कार्यालय शानदार होना चाहिए…अब जब कांग्रेस भवन तैयार हुआ है, तो लगता है एक सपना सच हो गया, प्रदेश कार्यालय भवन का उदघाटन मेरे दिल के लिए बेहद सुकून की बात है…मैं इस पल को जिंदगी में नहीं भूला पाऊंगा”.कांग्रेस के नये प्रदेश कार्यालय को लेकर ये कहना है पीसीसी चीफ भूपेश बघेल का। इस नये पीसीसी दफ्तर के साथ भूपेश बघेल का रिश्ता वाकई में बेहद गहरा है…वो इसलिए, क्योंकि राजस्व मंत्री रहते भूपेश बघेल ने ही पीसीसी अध्यक्ष की मांग पर ये जमीन आवंटित की थी। शंकर नगर में जमीन देने के बाद सालों तक निर्माण के कार्य की प्रक्रिया शुरू नहीं हो सकी थी। बतौर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डा चरणदास महंत ने भी भवन निर्माण के लिए बहुत प्रयास किए। लेकिन भवन निर्माण का सौभाग्य मिला भूपेश बघेल को। 2015 में भूपेश बघेल के प्रदेश अध्यक्ष रहते हुये इस जमीन पर भवन निर्माण के लिये कांग्रस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भूमिपूजन किया । इसके बाद निर्माण में 15 करोड की राशी खर्च की गई।

भूपेश बघेल उस जमीन आवंटन से जुड़ी बातें याद करते हुए कहते हैं कि ..प्रदेश कांग्रेस ने कार्यालय के लिए इस जमीन की डिमांड की थी, मेरे पास प्रस्ताव आया था और मैंने उसे आवंटित कर दिया। उस वक्त भी मेरे मन में यही ख्याल था कि ये भवन आकर्षक होना चाहिये। ये मेरी खुशकिस्मति है कि ये भवन आज मेरे पीसीसी अध्यक्ष रहते बना है। ये ऐसा मौका है, जिसे मैं जिंदगी में कभी नहीं भूला पाऊंगा। भूपेश बघेल का इस पीसीसी कार्यालय से जुड़ाव किसी से छुपा नहीं है, नींव की खुदाई से लेकर इमारत के रंग रोगन तक भूपेश बघेल ने खुद इसकी मानिटरिंग की । इसके बनने के दौरान उन्होंने 100 से ज्यादा इस कार्यालय की खुद आकर मानिटरिंग की और निर्माण कार्य का जायजा लिया।

राहुल गांधी से भी जुड़ा है इक्तेफाक

2015 में राहुल गांधी ने इस भवन का भूमिपूजन किया था और आज वो बतौर राष्ट्रीय अध्यक्ष इस भवन का उदघाटन करने आ रहे हैं। 13 हजार स्कावायर फीट में बनकर तैयार हुए इस राजीव भवन में 15 कमरे हैं, 1 कांफ्रेंस रूम, 2 बडे हाल, 200 लोगों की मौजूदगी वाला हाल और सभी प्रकोष्ठों के लिए भी अलग-अलग कमरे बनाये गये हैं।

झीरम शहीद और बड़े नेताओं की लगेगी तस्वीर

इस राजीव भवन में झीरम हमले में शहीद कांग्रेस के नेताओं की तस्वीरें भी लगायी जायेगी, ताकि उनके त्याग और शहादत को याद रखा जायेगा। कमरे और हाॅल का नामकरण शहीदों के नाम पर रखा जाएगा।