Home बड़ी खबर संविलियन शिविर का जायजा लेने खुद पहुंचे शिक्षा सचिव….. शिविर का किया...

संविलियन शिविर का जायजा लेने खुद पहुंचे शिक्षा सचिव….. शिविर का किया मुआयना, मोर्चा के प्रांतीय महासचिव धर्मेश शर्मा भी रहे मौजूद

622
0
रायपुर 14 जुलाई 2018। पूरे प्रदेश में 1.3 लाख शिक्षाकर्मियों के शासकीयकरण की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। प्रदेश में 300 शीर्ष अधिकारी संविलियन की प्रक्रिया की मानिटरिंग कर रहे हैं, तो वहीं 5000 से ज्यादा अफसर प्रक्रियाओं में लगे हुए हैं। आज खुद शिक्षा सचिव गौरव द्विवेदी संविलियन की प्रक्रिया का जायजा लेने के लिए अभनपुर पहुंचे और अफसरों को दिशा-निर्देश दिया। शिविर के माध्यम से आज शासकीय कर्मचारियों का वेतन प्रदाय करने वाले ई-कोष में समस्त पात्र शिक्षाकर्मियों का पंजीयन किया जा रहा है।
आज सुबह 10 बजे से प्रदेश के समस्त विकासखण्डों में संविलियन शिविर शिक्षाविभाग द्वारा आयोजित किये गए है,जिसमे लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा प्राप्त आदेश और निर्देशो का पालन करते हुए संविलियन की  प्रक्रिया की जा रही है।
शिक्षा सचिव गौरव द्विवेदी स्वयं इस संविलियन शिविर का जायजा लेने अभनपुर के शिविर स्थल पर पहुँचे और अवलोकन करते हुए शिविर स्थल पर मौजूद शिक्षाकर्मियों के साथ साथ अधिकारियों और कर्मचारियो से भी चर्चा की और आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किये। शालेय शिक्षाकर्मी संघ के प्रांतीय महासचिव धर्मेश शर्मा, अभनपुर विखं में ही पदस्थ हैं। धर्मेश शर्मा, शिक्षासचिव के साथ साथ शिविर स्थल का मुआयना किया ।
शिक्षा सचिव ने संविलियन प्राप्त समस्त शिक्षाकर्मियों का शिक्षाविभाग में अभिनंदन किया और उम्मीद जताई कि अब शिक्षाविभाग उत्तरोत्तर प्रगति करेगा।
शालेय शिक्षाकर्मी संघ के प्रदेशाध्यक्ष वीरेंद्र दुबे ने प्रदेश के समस्त शिक्षाकर्मियों को संविलियन और रथयात्रा की बधाई देते हुए कहा कि- आज रथयात्रा के पावन अवसर पर हम समस्त शिक्षाकर्मियों का अब शासकीय शिक्षक बन उज्ज्वल और सुरक्षित भविष्य की यात्रा भी आज से प्रारम्भ हो रही है।जो साथी अभी वंचित है वह भी जल्द हमारे साथ होंगे। संवेदशील मुख्यमंत्री जी ने जब गुरु की गरिमा प्रदान की है तो बाकि अन्य समस्याओं पर भी सहृदयता से निर्णय लेंगे।
प्रदेश मीडिया प्रभारी जितेन्द्र शर्मा ने जानकारी दी कि-प्रदेश के सभी स्थानों से शिविर के प्रारम्भ होने की खबरे आ रही है और शिक्षाकर्मियों में शासकीय कर्मचारी होने का हर्ष उनके चेहरे से परिलक्षित होने लगा है।