Home राजनीति शिविर में शिक्षाकर्मियों की परेशानियों का मौके पर ही होगा समाधान… राज्य...

शिविर में शिक्षाकर्मियों की परेशानियों का मौके पर ही होगा समाधान… राज्य सरकार ने हर जिले के लिए बनायी आब्जर्बरों की टीम…संविलियन में किसी भी तरह की परेशानी पर शिक्षाकर्मी सीधे ले सकेंगे सलाह

639
0

रायपुर 10 जुलाई 2018। संविलियन की पूरी पक्रिया तूफानी रफ्तार से चल रही है। देश के इतिहास में ये पहली बार होगा, जब दो दिवसीय शिविर के जरिये किसी भी प्रदेश में एक लाख 3 हजार शिक्षाकर्मियों के शासकीयकरण की प्रक्रिया पूरी की जायेगी। ये एक एतिहासिक क्षण होगा, जब शिक्षाकर्मी की पहचान शिक्षक पदनाम भी बन जायेगा और उनकी पहचान भी बदल जायेगी।

शिक्षा सचिव गौरव द्विवेदी के निर्देश के बाद 14 और 15 जुलाई को पूरे प्रदेश में शिक्षक एलबी संवर्ग को ई-कोष से माह जुलाई 2018 का वेतन, अऩ्य शासकीय सेवकों की तरह सुविधा देने के लिए संविलियन की प्रक्रिया पूरी की जायेगी। राज्य सरकार ने इसे लेकर अलग-अलग स्तर पर मानिटरिंग और आब्जर्बर की टीम बनायी है। प्रर्यवेक्षकों की टीम में डिप्टी डायरेक्टर व अस्टिटेंट डायरेक्टर स्तर के अधिकारी हैं। जिन अधिकारियों को नियुक्त किया गया है, उनमें

संजीव श्रीवास्तव को कोंडागांव व नारायणपुर, जेपी रथ को जांजगीर और सक्ति, आरएस चौहान को अंबिकापुर और बलरामपुर, केसी काबरा को मुंगेली और कबीरधाम, टीके साहू को राजनांदगांव और दुर्ग, एचआर सोम को धमतरी और गरियाबंद, एनके द्वेदी को कोरबा और बिलासपुर, एनके प्रधान को बलौदाबाजार और महासमुंद, आरएल ठाकुर को बालोद और रायपुर, डीएस ध्रुव को बीजापुर और सुकमा, ललित गणवीर को दंतेवाड़ा और बस्तर, एचसी दिलावर को बेमेतरा, ईकबाल अंसारी को रायगढ़ और जशपुर, प्रवीण श्रीवास्तव को कोरिया और सूरजपुर और हरीश वरू को कांकेर की जिम्मेदारी दी गयी है।