Home विविध संविलियन में अनेदखी से नाराज शिक्षाकर्मियों का राजधानी में 11 को जोरदार...

संविलियन में अनेदखी से नाराज शिक्षाकर्मियों का राजधानी में 11 को जोरदार प्रदर्शन…… शिक्षाकर्मियों का दावा- ना झुकेंगे, ना पीछे हटेंगे…नहीं मानी सरकार तो 11-12 जुलाई के बाद 18 को भी बड़ा प्रदर्शन… ये हैं प्रमुख मांगे

906
0
रायपुर 7 जुलाई 2018 । संविलियन का फैसला तो सरकार ने लिया, लेकिन इस संविलियन की आवाज के बीच हजारों शिक्षाकर्मियों की हितों ने दम तोड़ दिया। खासकर वर्ग तीन के वो शिक्षाकर्मी, जिन्हे आंदोलन में हर संगठन ने खूब इस्तेमाल किया गया, लेकिन शोेषण का शिकार भी सबसे ज्यादा ज्यादा यही वर्ग बना। बेशक संविलियन के ऐलान के बाद वर्ग तीन के शिक्षाकर्मियों का भी संविलियन हुआ, लेकिन वेतन विसंगति का दर्द दूर नहीं हुआ। लिहाजा संविलियन नीति से असंतुष्ट शिक्षाकर्मी वर्ग 3 ने सरकार के खिलाफ हल्ला बोलने की रणनीति तय कर ली  है।  इस नीति के तहत आगामी 11-12 जुलाई को राजधानी रायपुर में बड़े प्रदर्शन की तैयारी है। इसके बाद भी अगर सरकार अपनी नीतियों में बदलाव नहीं करती, तो 18 जुलाई को फिर से सरकार के खिलाफ आंदोलन की आग को तेज किया जायेगा।
आगामी 11 एवं 12 नवम्बर को राजधानी रायपुर के बुढ़ातालाब स्थित धरना स्थल में दो दिवसीय निश्चितकालींन हड़ताल किया जायेगा। उक्त हड़ताल में प्रदेशभर के सभी वर्ग 03 के शिक्षाकर्मी साथी सामिल होंगे।
वर्ग तीन के शिक्षाकर्मियों की सबसे ज्यादा नाराजगी संगठन के नेतृत्वकर्ताओँ से है, लिहाजा प्रदर्शन पूर्व ही ये ऐलान कर दिया है कि यह हड़ताल विशुध्द रूप से वर्ग 03 एवं 8 साल से कम वालों का ही हड़ताल है। इसमें कोई स्वयम्भू प्रदेशाध्यक्ष नहीं होगा।
यहां एक सामूहिक टीम होगी, जिसमें प्रदेशभर के अलग-अलग जिलो से शिक्षाकर्मी शमिल किये गए है। फिलहाल 8 सदस्यीय संयोजक मण्डल प्रदेश स्तरीय टीम में है। इन्ही के नेतृत्व में हड़ताल आगे बढ़ेगा। ये सभी वर्ग 03 से ही है। यहां कोई वर्ग 1 अथवा वर्ग 2 का प्रांताध्यक्ष नहीं रहेगा।
प्रमुख मांगे:-
1)   वर्ग 03 को क्रमोन्नति युक्त संविलियन दिया जाए।
2)  2013 से रदद् किये गए क्रमोन्नति वेतन के आदेश को फिर से रीस्टैंड किया जाएं।
3)  संविलियम में 8 साल की बाध्यता खत्म की जाएं।
4) 2013 के आंदोलन से लेकर अब तक सभी मृत शिक्षाकर्मियों के परिजनों के लिए तत्काल अनुकम्पा नियुक्ति के आदेश जारी किए जाएं।
5) स्थानांतरण पर लगे प्रतिबंध तत्काल हटाएं जाएं, खुली स्थानांतरण का लाभ सबको दिया जाए।
तय हुई हड़ताल और प्रदर्शन की नीति 
शनिवार 7 जुलाई को प्रदेश के सभी 146 विकासखण्ड मुख्यालयों के प्रत्येक संकुल में *”संकुल-बैठक”* आयोजित करें। संकुल बैठक में यह तय करें कि संकुल से प्रत्येक वर्ग 03 एवं 8 साल से कम सभी साथियों को आगामी 11 एवं 12 जुलाई को सामूहिक रूप से आकस्मिक अवकास पर रहना है। और 11 एवं 12 जुलाई को दोनों दिन राजधानी रायपुर के धरना-प्रदर्शन में शामिल होना है।