नो प्लास्टिक कैंपेन कार्यशाला में शामिल हुए महापौर, कलेक्टर, एसपी और निगम कमिश्नर…. सेल्युट टू साइलेंट कार्यक्रम में सम्मानित होंगे बेहतर कार्य करने वाले…. शुभांगी आप्टे बनी कैंपेन की पहली ब्रांड एंबेसडर

रायपुर 13 सितंबर 2019। एकल प्लास्टिक के उपयोग को रोकने जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में पूरा शहर एकजुट प्रयास करेगा, इसके लिए सभी संगठनों व संस्थाओं की मदद लेकर योजनाबद्ध रणनीति से पहल की जाएगी। इस संबंध में आयोजित कार्यशाला में शहर के सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों, स्व-सहायता समूहों को संबोधित करते हुए कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने कहा कि “नो प्लास्टिक रायपुर“ अभियान में प्रशासन व नागरिक संस्थाएं सामूहिक प्रयास कर इसे महा अभियान का रूप देगी। कार्यशाला में महापौर प्रमोद दुबे के साथ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख, नगर निगम कमिश्नर शिव अनंत तायल सहित स्वयं सेवी संगठनों के पदाधिकारियों ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए जनभागीदारी से प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग को रोकने सामूहिक व व्यापक पहल पर जोर दिया। नगर निगम मुख्यालय में आयोजित इस कार्यशाला में सामाजिक व स्वयंसेवी संगठनों ने भी परिचर्चा में विस्तार से अपनी बातें रखी।

इस परिचर्चा के अनुसार आम लोगों की सीधी भागीदारी के साथ इसे जन अभियान बनाने खेल, शिक्षा, साहित्य, कला सहित अन्य महत्वपूर्ण विधाओं में शहर को पहचान दिलाने वाले नागरिकों को “नो प्लास्टिक एंबेसडर“ मनोनीत किया जाएगा। स्कूल, कॉलेज, शासकीय व गैर शासकीय संगठनों, परिसरों में जाकर प्लास्टिक से बनी वस्तुओं के उपयोग न करने एनजीओ व प्रशासन मिलकर जागरूक करेेंगे। नगर निगम के कचरा वाहनों में ऑडियो के माध्यम से हर गली मोहल्ले में इस संबंध में संदेश दिया जाएगा। यही नहीं झुग्गी बस्तियों सहित पॉश कालोनियों में भी नुक्कड़ नाटक के जरिए जागरूकता अभियान संचालित कर “नो प्लास्टिक जोन“ घोषित करने की शुरूआत की जाएगी। रायपुर शहर में हर आयोजन में प्रतिबंधित प्लास्टिक से बनी वस्तुओं का उपयोग न करने का संदेश अनिवार्य किया जाएगा। ऐसे आयोजनों के लिए जिला, पुलिस व निगम प्रशासन से मिलने वाली अनुज्ञा के लिए आवेदक संस्था को प्लास्टिक से बनी वस्तुओं के उपयोग न करने का शपथ पत्र भी आवेदन के साथ प्रस्तुत करना होगा।

स्कूल प्रबंधन बच्चों के एल्मनेक व पैरेंट्स, टीचर्स मीट में स्कूल प्रबंधन सभी पालकों को यह लिखित संदेश प्रसारित करेगा कि बच्चों को प्लास्टिक से बने बॉटल व टिफिन उपयोग हेतु न दे एवं बाजार से सामान क्रय के लिए कपड़े व जूट से बने थैलों का उपयोग करें। यह दिशा निर्देश सभी शासकीय व निजी कार्यालयों पर भी लागू किए जाएंगे। इस हेतु श्रेष्ठ पहल करने वाले संस्थाओं को सम्मानित भी किया जाएगा। रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड, जिला प्रशासन साथ मिलकर “सेल्युट टू साइलेंट“ कार्यक्रम आयोजित करेगा, जिसके तहत प्लास्टिक मुक्त रायपुर के लिए बेहतर कार्य करने वाले सफाई कामगारों, एन.जी.ओ., व्यापारिक व अन्य संगठनों, आवासीय परिसरों के पदाधिकारियों को सम्मानित किया जाएगा। कलेक्टर डाॅ. भारतीदासन ने महत्वपूर्ण बाजारों में खरीदी के लिए आने वाले नागरिकों की सुविधा हेतु कपड़े व जूट से बने थैलों के विक्रय व वितरण केन्द्र की स्थापना करने व इसके लिए एन.जी.ओ. व स्व-सहायता समूह की सहायता लिए जाने के निर्देश नगर निगम को दिए है।

Ads

Ads

अपने संबोधन में महापौर श्री दुबे ने सभी से आह्वान किया कि इस अभियान से जुड़ी संस्थाएं अपने क्षेत्र में प्लास्टिक सामग्रियों के उपयोग रोकने कदम उठाएं। उन्होंने कहा कि शुरुआत अपने घर, गली-मोहल्ले से कर पूरे नगरीय क्षेत्र में इसके लिए एकजुट प्रयास किए जाएंगे। पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख ने कार्यशाला में एनजीओ की बड़ी उपस्थिति को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि इस अभियान में जिला पुलिस की पूरी भागीदारी होगी। पुलिस प्रशासन भी रायपुर को पूरे देश में एक मिसाल के तौर पर प्रस्तुत करने अपने स्तर से पूरा सहयोग करेगा। आयुक्त तायल ने कहा कि प्लास्टिक के उपयोग को रोकने नगर निगम में स्मार्ट सिटी सभी संगठनों के साथ मिलकर काम करेगा, इसके लिए सभी जोन, सहित, स्वच्छ भारत मिशन, स्वास्थ्य, शहरी आजीविका मिशन के अमले को भी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी जा रही है। अपर आयुक्त पुलक भट्टाचार्य ने कार्यशाला में प्लास्टिक से प्रतिबंध संबंधी नियमों की जानकारी उपलब्ध कराई एवं प्रतिबंधित प्लास्टिक के विक्रय व संधारण रोकने नगर निगम दस्ते को भी जानकारी उपलब्ध कराने का अनुरोध सामाजिक संगठनों से किया है। कपड़े के थैलों का निशुल्क वितरण कर लिम्का बुक आॅॅफ वल्र्ड रिकार्ड व गोल्डन बुक में अपना नाम दर्ज करा चुकी वरिष्ठ पर्यावरण पे्रमी शुभांगी आप्टे को इस अभियान का पहला ब्रांड एंबेसडर आज बनाया गया। इस कार्यशाला में स्मार्ट सिटी के जीएम टेक्निकल एसके सुंदरानी, उपायुक्त कृष्णा खटिक, स्वच्छ भारत मिशन के नोडल अधिकारी हरेंद्र साहू, स्वास्थ्य अधिकारी ए.के. हलदार सहित विभिन्न जोन के कमिश्नर, कार्यपालन अभियंता व जोन हेल्थ ऑफिसर भी शामिल हुए। इस कार्यशाला में ग्रीन आर्मी के संस्थापक अमिताभ दुबे, कुछ फर्ज हमारा भी के नितिन सिंह राजपूत, एक पहल सेवा के राजकुमार साहू , लायंस क्लब के जे एस ठाकुर, बंच ऑफ फूल्स, ए.डी.एम.वाई.डी., इंदु फाउंडेशन, राग फाउंडेशन, छत्तीसगढ़ मित्र, लोक सेवा संस्था, टेक्नोकिंग सॉल्यूशन, जे.सी.आई. कोपलवाणी, आदि शक्ति तृतीय लिंग समूह सहित स्व-सहायता समूह के सदस्य शामिल रहे। कार्यशाला के अंत में सभी ने प्लास्टिक का उपयोग न करने व दूसरों को भी इस हेतु प्रेरित करने की शपथ ली।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.