इस कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट ने पोकर गेम में उड़ाए 38 करोड़, पुलिस ने किया गिरफ्तार … जाने क्या है पूरा मामला

बेंगलुरु 10 सितंबर 2019। ग्लोबल इन्वेस्टमेंट फर्म गोल्डमैन सैक्श के बेंगलुरू दफ्तर के वाइस प्रेसिडेंट अश्विनी झुनझुनवाला को 38 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। ऑनलाइन पोकर गेम खेलकर वैश्विक निवेश कंपनी गोल्डमैन साक्स के एक वरिष्ठ अधिकारी ने करोड़ों रुपये गवां दिए थे। इस रकम को चुकाने के लिए उसने कंपनी के खातों का इस्तेमाल किया। कंपनी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अश्विनी झुनझुनवाला ने फर्म से कथित तौर पर 38 करोड़ रुपये की ठगी की, जिसके बाद मंगलवार को उसे बंगलूरू पुलिस ने गिरफ्तार किया गया।

गोल्डमैन सैक्श की शिकायत के मुताबिक ऑनलाइन जुए में नुकसान की वजह से अश्विनी पर कर्ज हो गया। इसकी भरपाई के लिए उन्होंने कंपनी से धोखाधड़ी की। आरोप है कि झुनझुनवाला ने कथित तौर पर कंपनी के अकाउंट से विदेश में एक निजी अकाउंट में 54 लाख डॉलर (38.8 करोड़ रुपये) ट्रांसफर किए थे। बेंगलुरु पुलिस ने कंपनी की शिकायत पर आईपीसी की धारा-419 व 420 और धारा-408 व 409 के तहत मामला दर्ज किया है।

गोल्डमैन सैक्श के मुताबिक अश्विनी ने ऑनलाइन जुए में 70 हजार डॉलर (50 लाख रुपए) गंवा दिए। उन्होंने 25 लाख रुपए का लोन भी ले रखा है। पुलिस पूछताछ में अश्विनी ने उसने कंपनी के भीतर पैसों के ट्रांसफर की बात मान ली है। इस मामले में उसके सहयोगियों की पुलिस को तलाश है।

यह मामला तब सामने आया जब एक कर्मचारी ने दो संदिग्ध लेनदेन पर सवाल उठाए। 6 सितंबर को कंपनी ने इंटरनल रिव्यू किया तो मामला सामने आ गया। इसके बाद झुनझुनवाला को रिपोर्ट करने वाले तीन जूनियर्स- गौरव मिश्रा, सुजीत अपैया और अभिषेक यादव से भी पूछताछ की गई।

Ads

Ads

शिकायत के मुताबिक, इन तीनों ने बताया कि झुनझुनवाला ने इनका काम रिव्यू करने के बहाने से उनका कंप्यूटर ऐक्सेस किया। कंप्यूटर पर लॉगिन करने के बाद झुनझुनवाला ने इन तीनों को खाना, पानी जैसी चीजों में उलझाए रखा। शिकायत के मुताबिक, गौरव ने कहा कि झुनझुनवाला ने उनसे पेमेंट रिकॉल के लिए सेटलमेंट रीकंसिलेशन सर्विस (एसआरएस) सेट अप करने को कहा। कंपनी में नए आए गौरव को यह पता नहीं था तो झुनझुनवाला ने गौरव का कंप्यूटर लेकर उसपर सेटअप कर दिया।

गौरव को शक हुआ तो उन्होंने ऑफिस में लोगों से भी इसकी चर्चा की। उन्हें पता चला कि झुनझुनवाला ने हॉन्ग कॉन्ग की एक कंपनी सिनर्जी विज्डम लिमिटेड के नामपर स्टैंडर्ड सेटलमेंट सेटअप कर दिया है। इसमें झुनझुनवाला ने गौरव की आईडी की इस्तेमाल किया। कंपनी ने पुलिस को बताया कि जब झुनझुनवाला को सीसीटीवी फुटेज और अन्य सबूतों की धमकी दी गई तो उसने गड़बड़ी करने की बात मान ली। झुनझुनवाला ने यह भी कहा कि इन तीनों में से एक इस सबमें शामिल है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.