बीजेपी जनपद अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, अविश्वास प्रस्ताव लाने से आहत होकर छोड़ा पद….

सूरज साहू newpowergame.com
धमतरी 22 सितंबर 2018. चुनावी साल में राजनीति एक बार फिर कवरट लेती नजर आ रही है. जनपद पंचायत अध्यक्ष रंजना डिपेन्द्र साहू ने अपना इस्तीफा भाजपा जिलाध्यक्ष को सौंप दिया है. इस इस्तीफ़े के बाद एक बार फिर राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है. हालांकि जिलाध्यक्ष रामू रोहरा ने इस्तीफा के बारे मे जानकारी नहीं होने की बात कर रहे है. वहीं अब किसे जनपद पंचायत अध्यक्ष की कमान मिलेगी इसकी कवायद तेज हो गई है. वहीं जानकार इस इस्तीफे को अलग नजरिये से भी जोड़कर देख रहे है.
दरअसल जनपद पंचायत चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के समर्थित 11-11 उम्मीदवार चुनावी मैदान जीतकर जनपद पंचायत पहुंचे थे. जबकि 3 निर्दलीय होकर चुनाव जीतकर पहुंचे थे. निर्दलीय होने के साथ चलते जनपद पंचायत में कांग्रेस से किसी को अध्यक्ष बनने के कयास लगाये जा रहे थे. लेकिन भाजपा से विजयी रंजना साहू ने बहुमत हासिल की और अध्यक्ष पद की कमान सम्हाल रही थी. बीते साढ़े तीन साल से उन्होंने बेहतर तरीके से अपना कार्यकाल पूरा किया. हालांकि इस दौरान कुछेक जनपद सदस्य उनसे नाखुश नजर आने लगे. पार्टी के जनपद सदस्यों ने विपक्षियों का बखूबी साथ दिया और करीबन 17 जनपद सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव के लिए अपर कलेक्टर को ज्ञापन सौंप दिया.
जनपद सदस्यों के ज्ञापन सौंपने के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष पर ही एक तरह से आरोप भी लगने शुरू हो गए. हालांकि उन्होंने इसके पीछे अपना हाथ होने से इंकार कर दिया, और नाखुश पार्टी प्रत्यार्शियों को मना लिये जाने की बात कही थी. इस बीच शनिवार को जनपद पंचायत अध्यक्ष रंजना साहू ने अपना इस्तीफा भाजपा जिलाध्यक्ष रामू रोहरा को सौंपने बात की है. इस मामले में रंजना साहू के मुताबिक पार्टी ने मुझ पर विश्वास जताते हुए और मुझे अध्यक्ष पद चुना. मैं साढे तीन सालो से जनता की सेवा मे लगी रही, मैंने अपना काम किया और अपने ही पार्टी के सदस्य मुझ पर अविश्वास लाए. जिसके कारण मुझे आहत हुई है. इसी की वजह से अध्यक्ष पद से त्याग पत्र देने की बात की है.
Ads

Ads

हालाकि इस पूरे मामले मे बीजेपी जिलाध्यक्ष रामू रोहरा ने एैसा कोई त्याग पत्र नहीं दिए जाने की बात कह रहे है. आपको बता दे कि जनपद पंचायत अध्यक्ष रंजना साहू के इस्तीफे के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि आने वाले दिनों कहीं उन्हें और बड़ी जिम्मेदारी दिया जा सकता है. धमतरी विधानसभा साहू बाहुल्य होने के कारण उन्हें कहीं आने वाले दिनों में टिकिट देकर पार्टी उम्मीदवार तो नहीं बनाना चाहती है. चर्चा है कि रंजना साहू भाजपा में सक्रिय जनप्रतिनिधि है. जिनका ग्रामीण इलाकों के अलावा समाज में भी खास दबदबा है. ऐसे में उन्हें आने वाले दिनों बड़ा मौका दिये जाने की बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता. फिलहाल उनके इस्तीफे से एक बार फिर राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है….

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.