शिक्षकों के वेतन के मुद्दे पर पर CM के निर्देश के बाद हरकत में आया विभाग… तीन अफसरों को शो-कॉज नोटिस जारी… 3 दिन के भीतर जवाब किया तलब, पूछा- क्यों नहीं मिला वक्त पर वेतन

रायपुर 16 जून 2019। निकाय क्षेत्र के शिक्षकों के 4 महीने से वेतन भुगतान नहीं किये जाने को सरकार ने बेहद गंभीरता से लिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के हस्तक्षेप के बाद तत्काल शिक्षाकर्मियों को वेतन का भुगतान तो हो गया, लेकिन शिक्षकों को वेतन के लिए तरसाने वाले जिम्मेदारों पर भी गाज गिरनी तय हो गयी है। नगरीय प्रशासन विभाग ने चार अफसरों को शो-कॉज जारी किया है।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

जिन अफसरों को कारण बताओ नोटिस जारी हुआ है, उनमें नगरीय प्रशासन विभाग के संयुक्त संचालक पीबी काशी, अनुदान शाखा के कार्यपालन अभियंता श्याम पटेल, तखतपुर के सीएमओ प्रह्लाद पांडेय और अनुदान शाखा के अधिकारी ईश्वर ताम्रकार शामिल हैं।

इन सभी अफसरों से 3 दिन के भीतर जवाब तलब किया गया है। नगरीय प्रशासन विभाग के अवर संचालक की तरफ से ये नोटिस जारी किया गया है। 0 शो काज में साफ उल्लेखित है कि अगर सही जवाब नहीं मिला तो अनुशासनात्मक कार्रवाई की जायेगी।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद विभाग के इस कदम का छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय शिक्षक संघ के प्रांतीय प्रभारी विवेक दुबे ने स्वागत किया।

उन्होंने कहा कि तखतपुर ब्लॉक के शिक्षाकर्मी साथियों के ट्वीट पर जिस प्रकार मुख्यमंत्री जी ने संज्ञान लेते हुए वेतन भुगतान की व्यवस्था बनाई है वह प्रशंसनीय है । जरूरत है इस बात की कि ऐसे ही अन्य जिले और ब्लॉक के विषयों में भी संज्ञान लेते हुए वहां वेतन भुगतान की व्यवस्था कराई जाए क्योंकि प्रदेश के ऐसे अनेक ब्लॉक हैं जहां 2 से लेकर 5 माह तक के वेतन का भुगतान रुका हुआ है साथ ही ऐसे गैर जिम्मेदार अधिकारियों पर भी कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए जिनके चलते ऐसी स्थिति निर्मित होती है । जिम्मेदार अधिकारियों पर जैसे ही कार्यवाही होगी अपने आप व्यवस्था सुधरने लगेगी , बहरहाल प्रदेश के शिक्षाकर्मियों को पूर्ण विश्वास है कि उन्होंने मुख्यमंत्री जी को उनके फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर अपने जिला और ब्लॉक में वेतन भुगतान न होने की जानकारी जिस प्रकार दी है उसका संज्ञान लेते हुए उनका भी वेतन भुगतान शीघ्र अति शीघ्र कराया जाएगा ।

 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.