शिक्षकों की गिरफ्तारी व सस्पेंशन के बाद राज्य सरकार ने की नयी नियुक्ति…. DPI के निर्देश के बाद DEO ने 7 नये टीचर की स्कूल में की तैनाती.. देखिये लिस्ट

रायपुर 8 नवम्बर 2019।बलौदाबाजार-भाटापारा जिला के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मरदा विकासखण्ड बलौदाबाजार में अध्यापन कार्य हेतु शिक्षकों की तात्कालिक व्यवस्था की गई है। संचालक लोक शिक्षण के निर्देशानुसार जिला शिक्षा अधिकारी बलौदाबाजार-भाटापारा द्वारा आदेश जारी किए गए हैं।
जिला शिक्षा अधिकारी बलौदाबाजार-भाटापारा द्वारा जारी आदेशानुसार शासकीय उच्चतर माध्यमिक माध्यमिक विद्यालय रसेड़ा के व्याख्याता पंचायत एल.बी. घनश्याम प्रसाद काठरे, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लवन के व्याख्याता पंचायत न.नि. नेतराम देवांगन, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय अहिल्दा के व्याख्याता पंचायत कुंजबिहारी साहू, शासकीय प्राथमिक शाला डोंगरा के सहायक शिक्षक एल.बी. ललित पाण्डेय, शासकीय प्राथमिक शाला बगबुड़ा के सहायक शिक्षक एल.बी. अजित कुमार, शासकीय प्राथमिक शाला हरदी के सहायक शिक्षक एल.बी. दिलचंद जांगड़े और शासकीय प्राथमिक शाला सिरियाडीह के सहायक शिक्षक एल.बी.  यशवंत कुमार को अध्यापन कार्य हेतु आदेशित किया गया है।
उल्लेखनीय है कि बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के विकासखण्ड बलौदाबाजार के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मरदा में अध्ययनरत छात्राओं के साथ शाला के शिक्षकों द्वारा अभद्र व्यवहार किए जाने की शिकायत पर 7 शिक्षकों के विरूद्ध निलंबन की कार्रवाई की गई थी।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

इससे पहले स्कूल छात्राओं से छेड़खानी का खुलासा होने के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा है। राज्य सरकार ने प्रिंसिपल सहित सभी 7 शिक्षकों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया था। पूरा मामला बलौदाबाजार के उच्चतर माध्यमिक विदयालय का है। शिक्षकों पर शर्मनाक आरोप लगा था कि उन्होंने लड़कियों को धमकाकर उनका शारीरिक शोषण किया करते थे। छात्राओं के नंबर बढ़ाने और पास करने के एवज में छात्राओं से छेड़खानी लंबे समय से की जा रही थी।

डीपीआई ने रामेश्वर प्रसाद साहू, दिनेश कुमार साहू, चंदन दास बघेल और रूप नारायण साहू को निलंबित कर विभागयी जांच का निर्देश दिया है। ये सभी शिक्षाकर्मी से हाल ही में व्याख्याता एलबी में पदोन्नत हुए हैं। वहीं अन्य शिक्षकों में लालमन बेरवंश, देवेंद्र कुमार खुंटे व्याख्याता शिक्षक के पद पर पदस्थ हैं। इस मामले में डीपीआई ने बलौदा बाजार के जिला पंचायत सीईओ के निर्देशित किया है कि वो तत्काल इन दो वर्ग-1 के शिक्षाकर्मियों को सस्पेंड करने का आदेश जारी करे और सभी के खिलाफ विभागीय जांच शुरू करें। वहीं महेश कुमार वर्मा सहायक शिक्षक एलबी को सस्पेंड करने का निर्देश डीईओ बलौदाबाजार को दिया गया है।

ये था पूरा मामला 

छात्रा से छेड़छाड़ करते शिक्षक को देख आपत्ति दर्ज कराने वाले ग्रामीण तब स्तब्ध रह गए जबकि यह खुलासा हुआ कि, छात्राओं को पास करने या कि प्रैक्टिकल में नंबर बढ़ाने के ऐवज में शिक्षकों का समुह ही छात्राओं से शारीरिक बदसलूकी करता था। पुलिस ने कार्यवाही करते हुए जिन शिक्षकों को गिरफ़्तार किया है, उनमें प्रिंसिपल भी शामिल हैं।मामले का खुलासा कल दोपहर तब हुआ जबकि ग्रामीणों ने शिक्षक को छात्रा से छेड़खानी करते देख लिया और इस शिक्षक पर कार्यवाही करने की माँग लेकर स्कुल पहुँच गए। वहाँ हंगामा बढ़ा तो पुलिस पहुँची जिसके बाद यह तथ्य सामने आया कि शारीरिक बदसलूकी का यह दौर लंबे अरसे से जारी था। पुलिस ने मामले में पॉस्को समेत 6 गंभीर धाराओं में अपराध दर्ज किया है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.