मोदी सरकार का बड़ा फैसला, 10 बैंकों का विलय कर 4 बड़े सरकारी बैंक बनाने का एलान….जानिए किन बैंकों का होगा एक दूसरे में विलय

नईदिल्ली 30 अगस्त 2019। इकोनॉमी में आई सुस्ती को दूर करने के लिए मोदी सरकार ने कई बड़े फैसले लिये हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज बड़े बैंकिंग सुधारों का एलान किया। इसमें 10 सरकारी बैंकों का विलय कर 4 बड़े सरकारी बैंक बनाने का एलान किया गया।  पीएनबी, ओरिएंटल बैंक और यूनाइटेड बैंक का विलय होगा। ये दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक होगा।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है इस विलय के बाद पीएनबी देश का दूसरा बड़ा सरकारी बैंक बन जाएगा। इसके अलावा निर्मला सीतारमण ने केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक के विलय का भी ऐलान किया। निर्मला सीतारमण ने बताया कि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का भी विलय होगा। इसके अलावा इंडियन बैंक में इलाहाबाद बैंक के विलय का ऐलान किया गया। इस विलय के बाद देश को 7वां बड़ा पीएसयू बैंक मिलेगा।

कौन- कौन से बैंक होंगे मर्ज

1. पंजाब नेशनल बैंक

-यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया

-ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स

2. केनरा बैंक

सिंडिकेट बैंक

3. इलाहाबाद बैंक

इंडियन बैंक

4. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया

आंध्रा बैंक

कॉरपोरेशन बैंक

5. बैंक ऑफ इंडिया

6. बैंक ऑफ बड़ौदा

7.बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र

8.सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया

9. इंडियन ओवरसीज बैंक

10.पंजाब एंड सिंध बैंक

11.स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया

12.यूको बैंक

किस बैंक को क्‍या मिलेगा

वित्त मंत्री ने बताया कि मर्जर के दौरान पंजाब नेशनल बैंक को लगभग 16,000 करोड़, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को 11,700 करोड़, बैंक ऑफ बड़ौदा को 7,000 करोड़, केनरा बैंक को 6,500 करोड़ रुपये, इंडियन बैंक को 2,500 करोड़ रुपये मिलेंगे. इसके अलावा इंडियन ओवरसीज बैंक को लगभग 3,800 करोड़, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 3,300 करोड़, यूको बैंक 2,100 करोड़ रुपये, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया को 1,600 करोड़ और पंजाब ऐंड सिंध बैंक को 750 करोड़ रुपये मिलेंगे.

 

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.