माओवादियों का आरोप – सुकमा मुठभेड़ फ़र्ज़ी, मुठभेड़ के नाम पर ग्रामीणों की हत्या और बलात्कार…. 13 अगस्त को सुकमा बंद का ऐलान, सुकमा पुलिस ने आरोपो को किया ख़ारिज

 रायपुर,11 अगस्त 2018। माओवादियों की दक्षिण बस्तर कमेटी की ओर से हस्तलिखित पर्चा जारी हुआ है जिसमें माओवादियों ने सुकमा मुठभेड़ को फ़र्ज़ी बताते हुए इसके विरोध में आगामी 13 अगस्त को सुकमा बंद का ऐलान किया है।
सुकमा के नुलकतोंग गाँव से करीब ढाई किलोमीटर दूर सुकमा पुलिस ने मुठभेड़ का दावा करते हुए पंद्रह नक्सलियो के मारे जाने का दावा किया था। उस मुठभेड़ को नक्सलियो ने फ़र्ज़ी क़रार दिया है।
माओवादियों की ओर से जारी विज्ञप्ति में जो विभिन्न माध्यमों से मीडिया तक पहुँचाई गई है उसमें इस मुठभेड़ को लेकर किए गए पुलिस के हर दावे को ख़ारिज किया गया है।
माओवादियों की ओर से जारी विज्ञप्ति में आरोप लगाया गया है कि, मुठभेड़ के नाम पर निर्दोष ग्रामीणों की हत्या की गई,कुछ लोग अभी भी पुलिस के क़ब्ज़े में है और कई लापता हैं।माओवादियों की यह विज्ञप्ति दावा करती है पुलिस और सशस्त्र बलों ने नुलकातोंग बेलपोस्सा गोमपाड किंदेमपाड कनाईपाड से एक दिन पहले करीब साठ ग्रामीणों को अपने साथ ले गए और अगले दिन सुबह नुलगातोंग पहाड़ी के पास ले जाकर पंद्रह ग्रामीणों की हत्या कर दी। विज्ञप्ति में दावा है कि मेट्टागूडा की तीन महिलाओं से सामूहिक अनाचार भी किया गया है।
माओवादियों की ओर से जारी यह हस्तलिखित विज्ञप्ति में आगामी तेरह अगस्त को सुकमा बंद का एलान किया गया है।
इधर इस विज्ञप्ति में किए दावों और आरोपो को सुकमा पुलिस ने सिरे से ख़ारिज करते हुए इसे माओवाद के छद्म युद्ध का एक तरीक़ा बताते हुए इसे पुलिस का मनोबल तोड़ने की असफल कोशिश क़रार दिया है।
सुकमा एसपी अभिषेक मीणा ने NPG से कहा

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

“नक्सलियो की ओर से जारी पर्चा झूठ के अलावा कुछ नही है,उसमें दिया ब्यौरा गलत है, यह मुठभेड़ थी और मिलिशिया से मुठभेड़ थी,हमारे पास पूरे तथ्य हैं, बलात्कार जैसे आरोपो में कोई सच्चाई नही है”

माओवादियों ने दो पन्ने की विज्ञप्ति में मृतक पंद्रह लोगो के नाम सार्वजनिक करते हुए दावा किया है कि ये सभी विशुद्ध ग्रामीण थे और इनका माओवाद से संपर्क नही था, सुकमा पुलिस ने जारी नाम को सही बताया है लेकिन इस बात को ख़ारिज किया है कि इनका नक्सलियो से कोई संबंध नही था, सुकमा पुलिस का दावा है कि मारे गए लोग मिलिशिया के सदस्य थे और उनके अपराधिक रिकॉर्ड हैं।

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.