ट्रांसफर में जुगाड़ की ऐसी चली बयार , पति-पत्नी और आपसी स्थानांतरण वाले पूछ रहे – कब आएगा हमारा नंबर

रायपुर 31 अगस्त 2019। प्रदेश में ट्रांसफर नीति जारी करते समय इस बात का स्पष्ट तौर पर उल्लेख किया गया था कि ट्रांसफर करते समय विभाग द्वारा इस बात का प्रयास किया जाएगा कि पति-पत्नी यदि दोनों सेवा में है तो उन्हें पदस्थापना यथासंभव एक स्थान पर मिल सके। स्कूल शिक्षा विभाग में जिस प्रकार से तबादलों के लिए लाइन लगी और नेताओं की अनुशंसा के साथ-साथ पैसे का खेल चला उसमें पति-पत्नी एक स्थान पर पदस्थापना और आपसी स्थानांतरण के आवेदन कहीं खो से गए ।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

अभी तक जितने भी आदेश जारी हुए हैं उसमें न तो पति-पत्नी पदस्थापना की नीति का ध्यान रखा गया है और ना ही आपसी स्थानांतरण का, यही वजह है कि अभी तक जारी हुए सभी सूचियों में केवल और केवल शैक्षिक और प्रशासनिक तबादलों का ही जोर है और जिन लोगों ने पति-पत्नी आधार पर या फिर आपसी स्थानांतरण के आधार पर आवेदन दिया है वह अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं साथ ही अब उनके मन में डर भी सता रहा है कि उनका स्थानांतरण होगा भी कि नहीं, खासतौर पर आपसी वालों में तो यह जबरदस्त डर है क्योंकि उन्हें लगा था क्योंकि वह आपसी स्थानांतरण करा रहे हैं और इससे उनकी जगह पर दूसरा व्यक्ति आ जाएगा।

ऐसे में उन्होंने न तो किसी नेता का अनुशंसा पत्र लगाया है और न ही पैसे की बोली, उन्हें स्वाभाविक रूप से ट्रांसफर होने की उम्मीद थी लेकिन अब उन्हें डर सता रहा है कि जैसा खेल चल रहा है वैसे मैं कहीं वह ट्रांसफर से ही तो नहीं चूक जाएंगे । बात करें शिक्षा विभाग की तो ऐसे हजारों आवेदन है जिसमें स्पष्ट तौर पर पति-पत्नी आधार पर या फिर आपसी आधार पर स्थानांतरण की मांग की गई है लेकिन अभी तक उनका स्थानांतरण आदेश जारी नहीं हुआ है। जरूरत है इस बात की कि विभाग नेताओं, मंत्रियों और अधिकारियों को खुश करने के साथ-साथ ऐसे जरूरतमंदों की तरफ भी ध्यान दें ताकि उनका भी भला हो सके क्योंकि यही वह लोग हैं जो वास्तव में सबसे पहले लाभ पाने के उत्तराधिकारी हैं और अभी तक तो उन्हीं के साथ अन्याय होता हुआ नजर आ रहा है ।

इस मुद्दे पर शिक्षाकर्मी नेता विवेक दुबे का कहना है कि

हमारे हजारों साथियों ने पति- पत्नी और आपसी स्थानांतरण के आधार पर ट्रांसफर के लिए विभाग को अपना आवेदन सौंपा है लेकिन अभी तक उन्हें स्थानांतरण का लाभ नहीं मिला है इसे लेकर वह परेशान हैं और लगातार हमे अपनी समस्या बता रहे हैं । विभाग में अपनी स्थानांतरण नीति में भी इस बात का जिक्र किया है की पति-पत्नी को एक स्थान पर पदस्थापना देने का यथासंभव प्रयास किया जाएगा और इस पर पहल होनी चाहिए साथ ही आपसी स्थानांतरण को तो अनिवार्य रूप से किया जाना चाहिए क्योंकि इसमें केवल शिक्षकों का एक स्थान से दूसरे स्थान पर परिवर्तन होता है और किसी प्रकार की कोई रिक्तता नहीं रहती, दोनों स्कूलों में शिक्षक भी आ जाएंगे और शिक्षक को स्थानांतरण का लाभ भी मिल जाएगा इसलिए ऐसा स्थानांतरण तो शत प्रतिशत होना चाहिए लेकिन अभी तक जारी हुए आदेश में ऐसे सैकड़ों शिक्षक बचे हुए हैं जिन्होंने आपसी स्थानांतरण के लिए आवेदन दिया था लेकिन अभी तक उनकी सुनवाई नहीं हुई है । विभाग इस पर भी ध्यान दें और अन्य जरूरतमंदों के साथ-साथ अगली सूची में इन दोनों प्रकार के प्रकरणों को भी विशेष तौर पर शामिल करते हुए ही स्थानांतरण आदेश जारी किया जाए ।

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.