कलेक्टर अवनीश ने बतौर IAS पूरे किये अपने 10 साल… फेसबुक पर कुछ इस अंदाज में बयां किया अपने एक दशक का सफर… लिखा- “कुछ कमियों के बावजूद सरकारी सिस्टम आज भी बेस्ट”

रायपुर 31 अगस्त 2019। कबीरधाम कलेक्टर अवनीश शरण ने बतौर IAS अफसर 10 वर्ष पूरे कर लिये हैं। लंबे प्रशासनिक अनुभवों और अहसासों को कलेक्टर अवनीश ने अपने फेसबुक पोस्ट के जरिये बयां किया है। अवनीश शरण ने अपने पोस्ट में प्रशासनिक अफसर के तौर पर आप क्या कुछ कर सकते हैं, किस तरह से जरूरतमंदों तक पहुंच सकते हो। जो खुद ना कर सके हों, उसे दूसरों के लिए कैसे प्रेरक बनकर पूरा कर सकते हैं, उन तमाम अनुभवों का वर्णन किया है।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

बतौर प्रशासनिक अफसर अवनीश ने जो अब तक जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है, उसका भी जिक्र उन्होंने अपने पोस्ट में किया है। इन सबके बीच एक दिलचस्प ये भी बात है कि उन्होंने साल 2009 की वो तस्वीर भी पोस्ट की है, जो उन्होंने बकायदा अकादमी में ज्वाइंनिंग के पहले दिन खिंचवायी थी। अपने तस्वीर के साथ उन्होंने लिखा है- (31 अगस्त 2009, गंगा हॉस्टल, LBSNAA, मसूरी) ।

बलरामपुर के बाद कवर्धा जिला कलेक्टर की भूमिका निभा रहे अवनीश शरण ने एक प्रेरक कविता भी अपनी पोस्ट के आखिर में लिखी है। उनकी पोस्ट की एक सबसे खुबसूरत बात ये है कि उन्होंने अपने अकादमिक करियर में बेहतर अंक नहीं ला पाने का भी जिक्र किया है। उन्होंने लिखा है…

क्या कभी कल्पना किया जा सकता है कि कोई ऐसा व्यक्ति जो ख़ुद कभी परीक्षा में 70% मार्कस ना लाया हो, “mission90” के माध्यम से अपने जिले के स्टूडेंट्स के लिए प्रयास करे…इंजीनियर बनने का सपना पूरा ना कर पाने के बाद इंजीनियर और डाक्टर बनाने वाली परीक्षा के लिए कोचिंग शुरू करे. ये सब अवसर भारतीय प्रशासनिक सेवा ही दिला पाती है, जिसके माध्यम से सरकार की योजनाओं के द्वारा आप ये सब कर सकते हैं.

अवनीश बहुत बेबाकी से लिखते हैं –

कोई भी ‘सिस्टम’ उसको चलाने या लागू करने वालों पर निर्भर करता है. अपनी बहुत सी कमियों के बावजूद सरकारी सिस्टम आज भी बेस्ट है, यह कहा जा सकता है. इस बात को किसी ‘crisis’ के समय और अधिक महसूस किया जा सकता है. ज़रूरत है बस समय के साथ और अधिक उत्तरदायी और पारदर्शी बनाने की.

2009 बैच के IAS अफसर अवनीश को शानदार 10 साल पूरे होने पर खूब सारी बधाई!!

 

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.