अबूझमाड़ में जवानों तक नहीं पहुंच पाया हेलीकाप्टर…. खराब मौसम की वजह से नहीं हुई लैंडिंग….अब पैदल ही लौट रहे हैं जवान

नारायणपुर 24 अगस्त 2019। मुठभेड़ के बाद जवानों अब तक अबूझमाढ़ से नहीं निकल पाये हैं। हालांकि दो जवानों के घायल होने की खबर के बाद रेस्क्यू के लिए एयरफोर्स के हेलीकाप्टर को रवाना किया गया था, लेकिन कई बार के प्रयास के बाद भी हेलीकाप्टर की लैंडिंग नहीं करायी जा सकी, जिसके बाद हेलीकाप्टर को बैरंग वापस लौटना पड़ा।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

अब से कुछ देर पहले तक ये खबर थी कि जवान अबूझमाड़ से वापस नहीं लौट पाये हैं। घायल जवानों को भी अब तक नहीं निकाला जा सका है, हालांकि पुलिस का कहना है कि जवान की स्थिति स्थिर है। आज रेस्क्यू में मौसम ने भी जवानों का साथ नहीं दिया, जिसकी वजह से जवानों को सहायता नहीं पहुंचाया जा सका।

आसमानी राहत नहीं मिलते देख अब जवान पैदल ही वापस लौट रहे हैं। बस्तर आईजी ने घायल जवानों के बारे में बताया है कि अभी जवानों की स्थिति स्थिर है। आपको बता दें कि तड़के माओवादियों के गढ़ ईलाके अबूझमाड में डीआरजी को बड़ी सफलता हासिल हुई थी।  ओरछा से करीब बीस किलोमीटर भीतर धुरबेड़ा में चल रहे बड़े नक्सल कैंप को जवानों ने ध्वस्त कर दिया गया। नक्सली कैंप को ध्वस्त करने के दौरान हुई मुठभेड़ में पाँच नक्सलियो के मारे जाने का दावा किया गया है।
सुबह करीब साढ़े आठ बजे के आसपास यह मुठभेड़ तब शुरु हुई जबकि डीआरजी जवानों ने घुरबेड़ा में चल रहे बड़े नक्सली कैंप को घेर लिया। डेढ़ घंटे तक चली इस मुठभेड़ के बाद पाँच नक्सलियो के शव और बड़ी संख्या में हथियार बरामद हुए हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.