अनुकंपा नियुक्ति प्रकरण में पंचायत मंत्री की पहल का फेडरेशन ने किया स्वागत… मनीष मिश्रा बोले- अनुकंपा सहित अन्य मांगों पर सरकार जल्द करे ठोस निर्णय… आज पंचायत मंत्री ने लिखा है मुख्यमंत्री को पत्र

रायपुर 27 अगस्त 2019 । शिक्षाकर्मियों से जुड़ी एक बड़ी खबर आ रही है। दिवंगत शिक्षाकर्मी के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति दिये जाने की मांग के साथ पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा है। पंचायत मंत्री सिंहदेव ने शिक्षाकर्मियों की अनुकंपा नियुक्ति को विशेष प्रकरण मानते हुए नियमों में शिथिलता  की मांग की है। शिक्षाकर्मियों की अनुकंपा नियुक्ति की मांग वर्षों पुरानी है, लेकिन अनुकंपा नियुक्ति की नियम शर्तें इतनी पेचिदगी से भरी है कि अधिकांश शिक्षाकर्मी के परिजन अनुकंपा नियुक्ति हासिल नहीं कर पाते हैं।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

पंचायत मंत्री की पहल का फेडरेशन ने भी स्वागत किया है। फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष मनीष मिश्रा ने पंचायत मंत्री का आभार जताते हुए कहा है कि

“आज अनुकंपा नियुक्ति के लिए दिवंगत शिक्षाकर्मी परिवार भटक रहे हैं, कई बार फेडरेशन ने इस बाबत पहल की है, पंचायत मंत्री ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर एक सार्थक कदम उठाया है, हम मुख्यमंत्री जी से अनुरोध करते हैं कि अनुकंपा नियुक्ति के साथ-साथ शिक्षक व शिक्षाकर्मियों से जुड़े मांगों पर जरूरी निर्देश दें”

सिंहदेव ने अपने पत्र में लिखा है कि शिक्षाकर्मियों की अनुकंपा नियुक्ति का करीब 700 प्रकरण लंबित है। मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र में सिंहदेव ने लिखा है..

“राज्य के शिक्षाकर्मी संवर्ग के आश्रित परिवार के सदस्यों द्वारा मुझसे भेंटकर अवगत कराया गया है कि शिक्षाकर्मी के आक्समिक निधन पर उनके आश्रित परिवार के सदस्यों को अनुकंपा नियुक्ति हेतु TET और BED-DED की अनिवार्यता रखी गयी है, जिसके कारण हितग्राही आश्रित परिवार अनुकंपा नियुक्ति से वंचित हो रहे हैं, प्रदेश में शिक्षाकर्मियों की अनुकंपा नियुक्ति के लगभग 700 प्रकरण वर्तमान में लंबित हैं”

“वर्तमान में प्रचलित नियमों के कारण मृतक शिक्षाकर्मी के आश्रित परिवार को भरण पोषण में बेहद कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में आश्रित परिवार द्वारा समय-समय पर अनुकंपा नियुक्ति हेतु मांग की गयी है, किंतु आज पर्यन्त तक इस विषय पर समाधानकारक निर्णय नहीं हो सका है”

आपको बता दें कि शिक्षाकर्मियों की अनुकंपा नियुक्ति को लंबे समय से मांग हो रही है। पिछली सरकार में भी कई दफा मांग पत्र सौंपा गया, लेकिन कोई निराकरण नहीं हो पाया। आलम ये है कि अधिकांश दिवंगत शिक्षाकर्मी का परिवार आज दर-दर की ठोकरें खा रहाहै, जिनके सामने भूखमरी के हालात हैं। इस मामले में NPG से सिंहदेव ने कहा कि …

“सैंकड़ों शिक्षाकर्मी के परिवार ऐसे हैं, जिन्हें नौकरी मिलनी चाहिये थी, उन्हे ही लेकर मैं प्रयास कर रहा हूं, यदि नियम जटिल हैं, तो नियम बदले जाने चाहिये”

 

विज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.