Home Exclusive मेजर की पत्नी के साथ तीन साल से अफेयर था मेजर हांडा...

मेजर की पत्नी के साथ तीन साल से अफेयर था मेजर हांडा का….. करना चाहता था शादी, पर शैलजा कर रही थी इंकार… लेक्चरर से मैगजीन की कवर गर्ल बनी शैलजा की इस तरह हुई हत्या

617
0

नयी दिल्ली 24 जून 2018। दिल्ली कैंट के इलाके मेजर की पत्नी शैलजा की हत्या का राज जैसे-जैसे खुलता जा रहा है कि उसके प्रेमी मेजर निखिल हांडा का असली चेहरा और साजिश भी सामने आता जा रहा है। मेजर निखिल हांडा से पूछताछ में प्रेम प्रसंग के मामले की पुष्टि हुई है। मेजर निखिल हांडा के मुताबिक वो मेजर अमित द्विवेदी की पत्नी शैलजा से प्रेम करने लगा था और उससे शादी करना चाहता था, लेकिन शैलजा को ये शादी मंजूर नहीं था। इसी वजह से मेजर निखिल ने चाकू से गला रेतकर शैलजा की हत्या कर दी। दरअसल मेजर निखिल और मेजर अमित द्विवेदी के परिवार के बीच पिछले तीन साल से अच्छे संबंध थे. दीमापुर में पोस्टिंग के दौरान दोनों मेजर्स के बीच पारिवारिक संबंध बढ़े. लेकिन इस बीच मेजर निखिल का झुकाव शैलजा की ओर बढ़ता ही चला गया। घटना वाले दिन यानी शनिवार की सुबह भी मेजर निखिल ने शैलजा को कॉल की थी और मिलने के लिए बुलाया था. मेजर अमित द्विवेदी को भी अपनी पत्नी और मेजर निखिल के बीच संबंधों के बारे में पता था।

जानकारी के मुताबिक शैलजा से निखिल की लगातार बात होती रहती थी। शैलजा के मोबाइल में मेजर निखिल के कई काल रिकार्ड मिले। ऐसे में जब निखिल से संपर्क करने की कोशिश की गयी उसका मोबाइल बंद आ रहा था।  पुलिस ने जब मेजर निखिल से कॉन्टैक्ट करने की कोशिश की तो पुलिस को समझ आया कि वह भागने की कोशिश कर रहा है, जिससे पुलिस का मेजर निखिल पर शक और बढ़ गया।

पुलिस का कहना है कि मेजर निखिल ने अपने बेटे के इलाज के लिए उसे खासतौर पर दिल्ली के कैंटोनमेंट में स्थित आर्मी बेस हॉस्पिटल में इसलिए भर्ती करवाया था, ताकि उसे शैलजा से मिलने का बहाना मिल सके. वह खुद अपने माइग्रेन का इलाज यहीं से करवा रहा था.

शैलजा के पति मेजर अमित पिछले कुछ समय से दिल्ली ट्रेनिंग के लिए आए हुए थे और जल्द ही उन्हें यूएन मिशन पर सूडान जाना था. जैसे ही मेजर निखिल को मेजर अमित के सूडान जाने के बारे में पता चला, वह भी दिल्ली चले आए. दिल्ली के कैंटोनमेंट इलाके में स्थित आर्मी बेस हॉस्पिटल में मेजर निखिल के बेटे का भी इलाज चल रहा था.

वारदात के दिन सुबह लगभग 10 बजे शैलजा भी बेस अस्पताल फिजियोथेरेपी करवाने पहुंचीं, जहां दोनों की मुलाकात हुई. मेजर निखिल वहां से शैलजा को अपनी कार में ले गए और कार में दोनों के बीच झगड़ा हुआ. दरअसल मेजर निखिल शैलजा पर शादी के दबाव बना रहे थे, जबकि शैलजा ने शादी से इनकार कर दिया. शादी से इनकार करने पर मेजर निखिल ने गुस्से में शैलजा पर चाकू से वार कर दिया.

जानकारी के मुताबिक, मेजर निखिल हमले में इस्तेमाल चाकू कार में रखकर ही लाए थे. चाकू से गला रेतने के बाद मेजर निखिल ने शैलजा को कार से धक्का दे दिया और कार शैलजा के ऊपर से चढ़ाते हुए फरार हो गए. वारदात के बाद मेजर निखिल बेस अस्पताल अपने बेटे को देखने गया और वहां से साकेत के अपने घर गया.

मेजर निखिल ने जब टीवी पर कत्ल की खबर देखी तो उसके बाद साकेत के अपने घर से निकला और कार में बैठकर दिल्ली में ही घूमता रहा. फिर वह मेरठ के आर्मी कैंटोनमेंट एरिया चला गया. पुलिस ने इस बीच सीसीटीवी फुटेज के आधार पर लगातार मेजर निखिल की होंडा सिटी कार पर नजर बनाए रखी.

पुलिस ने बताया कि मेजर निखिल ने अपना मोबाइल नंबर स्विच ऑफ कर लिया था, जिसके चलते उन्हें उस पर शक हुआ. मेजर निखिल ने अपने घरवालों से भी कॉन्टैक्ट तोड़ लिया था, जिसके बाद उस पर पुलिस का शक गहराता गया. हालांकि इस बीच उसने व्हाट्सऐप कॉलिंग के जरिए कुछ लोगों से संपर्क किया, जिसे पुलिस ने ट्रैक कर लिया. पुलिस ने बताया कि रास्ते में टॉल बूथ पर लगे सीसीटीवी से निखिल की कार ट्रेस हुई और आखिरकार मेरठ से उसे गिरफ्तार कर लिया गया.