Home राजनीति अमित जोगी बोले – ‘राहुल गाँधी का छत्तीसगढ़ में स्वागत है’…दुर्ग व...

अमित जोगी बोले – ‘राहुल गाँधी का छत्तीसगढ़ में स्वागत है’…दुर्ग व सीतापुर जा रहे हैं….तो राजनांदगांव, जशपुर, पाटन और घाटबर्रा क्यों जाकर नहीं जा रहे

3488
0

 

रायपुर 16 मई 2018। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के 17 और 18 मई के छत्तीसगढ़ प्रवास पर चुटकी लेते हुए मरवाही विधायक अमित जोगी ने व्यंगात्मक रूप से राहुल गाँधी का छत्तीसगढ़ में स्वागत किया है। अमित जोगी ने कहा कि 11 फरवरी 2018 को उनकी पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे ने 4000 गाड़ियों के कारवां के साथ रायपुर से राजनांदगांव तक चुनौती यात्रा निकाली थी, जहाँ छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के अध्यक्ष अजीत जोगी ने यह घोषणा करी थी की आगामी चुनावों में वे प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से सीधा मुकाबला करेंगे।

जूनियर जोगी ने सवाल किया कि जब  राहुल गाँधी दुर्ग से रायपुर तक रोड शो कर रहे हैं तो वे अतिरिक्त 8 किलोमीटर जाकर मुख्यमंत्री के गृहक्षेत्र राजनांदगांव उनको सीधी चुनौती देने क्यों नहीं जाते? वैसे ही राहुल गाँधी सीतापुर में आमसभा कर रहे हैं तो क्यों न वे 8 किलोमीटर आगे जशपुर भी चले जाएँ जो जूदेव परिवार, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष नंदकुमार साय और केंद्रीय मंत्री  विष्णुदेव साय का गढ़ है।  अमित जोगी ने कहा कि राहुल गाँधी केवल जोगी के घर में घुसकर अजीत जोगी और उन्हें चुनौती देना चाह रहे हैं और यह काम भी वे अकेले अपने दम पर नहीं कर पा रहे हैं। जोगी के गृह क्षेत्र में आमसभा करने के लिए उन्हें गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और एकता परिषद् से मदद मांगनी पड़ रही है। गाँधी ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से 32 विधानसभा क्षेत्रों से भीड़ लाने कहा है, कुछ लोग को तो 400 किलोमीटर दूर से भी लाया जा रहा है जिसके लिए करोड़ों रूपए खर्च किये जा रहे हैं। राहुल गाँधी ने बिहार और उत्तर प्रदेश के नेताओं को मरवाही में डेरा डालने कहा है। इतना सब कुछ करने के बाद भी उनकी सभा का डोम मात्र 18,400 वर्ग फ़ीट का है जो एक ब्लॉक स्तर की मीटिंग जितना बड़ा है।

अमित जोगी ने कहा कि उनकी पार्टी ने राहुल गाँधी की चुनौती को स्वीकार कर लिया है। जिस समय राहुल कोटमी में होंगे, उसी समय अजीत जोगी अकेले अपने दम पर पेंड्रा में एक आमसभा ले रहे होंगे। जोगी की पार्टी डोम बनाने का खर्च वहन नहीं कर सकती, लेकिन उनका टेंट 1 लाख 40 हज़ार वर्गफुट जितना बड़ा है और 6 एकड़ के मैदान का हर इंच स्थानीय लोगों से भरा रहेगा। राहुल की आमसभा से अजीत जोगी लगभग 10 गुनी बड़ी सभा लेंगे। 29 अप्रैल को साइंस कॉलेज रायपुर में हुई महारैली के बाद एक बार फिर पूरा देश देखेगा की छत्तीसगढ़ की जनता किसके साथ है।

अमित जोगी ने कहा कि राहुल गाँधी का यह दावा की उनका मेरे क्षेत्र का प्रवास राजनैतिक न होकर आदिवासी अधिकारों की रक्षा पर केंद्रित है, पूर्ण रूप से बेतुका है। अपनी पार्टी के प्रादेशिक नेताओं की भांति राहुल गाँधी भी जोगेरिया रोग से ग्रसित हो गए हैं। जोगी ने पूछा कि यदि राहुल गाँधी को आदिवासी अधिकारों के हनन की इतनी चिंता है तो वे जशपुर क्यों नहीं जाते जहाँ पत्थलगड़ी आन्दोलन के माध्यम से आदिवासी अधिकारों के हनन की बात पूरे देश के सामने आयी है। सत्तापक्ष को अपने संवैधानिक अधिकारों की याद दिलाने जशपुर के आदिवासियों को पत्थर गाड़ने पर विवश होना पड़ा है। उन्हें शासन प्रशासन द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है। और यह सब इसलिए हो रहा है क्योंकि छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार आदिवासियों की पुश्तैनी जमीनों पर खनन का ठेका राहुल गाँधी की ही पार्टी के पूर्व सांसद नवीन जिंदल की कंपनी जीएसपीएल को चुपचाप देते जा रही है। जोगी ने सवाल किया कि राहुल घाटबर्रा क्यों नहीं जाते जहाँ उनकी पार्टी के स्थानीय विधायक और पूर्व महाराज सिंहदेव जो छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी हैं, ने कोयला खनन के ट्रांसपोर्ट ठेकों के लालच में भाजपा सरकार को 900 वन अधिकार पट्टे गैरकानूनी तरीके से निरस्त करने दे दिया ? राहुल गाँधी पाटन क्यों नहीं जाते जहाँ उनकी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल के पिता को  दुर्ग जिला न्यायलय द्वारा आदिवासियों की 20 एकड़ जमीन हड़पने का दोषी पाया  है? जिंदल, बघेल और सिंहदेव के प्रकरणों से यह स्पष्ट है कि आदिवासियों की धन संपदा लूटने के मामले में कैसे कांग्रेस और भाजपा एक ही थाली के चट्टे भट्टे हैं।

अमित जोगी ने कहा कि श्री गाँधी के श्रेष्ठ चुनावी रिकॉर्ड को देखते हुए हम चाहते हैं कि वे छत्तीसगढ़ में हर जगह जाएँ। उनका स्वागत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here