Home ब्यूरोक्रेट्स मां की प्रेरणा न मिलती तो कलेक्टर ओपी चौधरी नहीं बन पाते...

मां की प्रेरणा न मिलती तो कलेक्टर ओपी चौधरी नहीं बन पाते आईएएस ,ओपी ने मदर्स डे पर मां के लिए लिखी दिल को छू लेने वाली बातें…

719
0

रायपुर 13 मई 2018। यूं तो कलेक्टर ओपी चौधरी खुद कई युवाओं के प्रेरणा हैं, लेकिन बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि ओपी चौधरी की प्रेरणा उनकी ‘माँ’ हैं । माँ….जिनकी बदौलत ओपी चौधरी, कलेक्टर ओपी चौधरी बन पाए। आज जब पूरी दुनिया मदर्स डे पर अपनी-अपनी माँ ….और मां से जुड़ी यादों को बयां कर रही है, तो IAS ओपी चौधरी ने भी अपनी प्रेरणा स्वरूप माँ से जुड़ी यादों को साझा किया। अपने फेसबुक पोस्ट में उन्होंने लिखा है, अगर माँ की प्रेरणा न मिली होती तो शायद वो IAS न बन पाए होते। दरअसल ओपी चौधरी का बचपन बेहद अभाव में गुजरा, पिता का साया बचपन में उनके सर से हट गया था। पिताजी सरकारी नौकरी में थे, लिहाज़ा वो अनुकम्पा नियुक्ति के हकदार थे, लेकिन माँ ने आईएएस बनने के लिए ओपी चौधरी को प्रेरित किया। बेशक मेहनत और संघर्ष उन्हीने खुद किया, लेकिन मां के आशीर्वाद से उनका संघर्ष सरल हो गया । अगर माँ की प्रेरणा को उन्होंने अगर सर आंखों पर ना सजाया होता तो शायद छत्तीसगढ़ को पहला IAS अफसर ओपी चौधरी के रूप में ना मिला होता। आज मदर्स डे पर कलेक्टर ने अपने फेसबुक पर मा की तस्वीर के साथ लिखा है…….मेरी माँ… जब मैं 12वीं पढ़ा तो मेरे पिता जी की जगह में मुझे अनुकम्पा में शासकीय नौकरी मिल सकती थी लेकिन ४थी पढ़ी हुई मेरे गाँव बायंग जिला रायगढ़ में रहने वाली मेरी माँ कौशल्या ने मुझे अनुकम्पा की नौकरी के लिये मना करके IAS  तैयारी करने के लिये कहा ताकि मैं समाज के लिये भी कुछ कर सकुँ उनकी प्रेरणा विज़न दूरदर्शिता और मजबूत व्यक्त्तिव को आज सलाम

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here