Home कॉरपोरेट छोटी माता, पोलियो उन्मूलन की सफलता के बाद अब स्कूलों व आंगनबाड़ी...

छोटी माता, पोलियो उन्मूलन की सफलता के बाद अब स्कूलों व आंगनबाड़ी केन्द्रों में खसरा-रूबेला के लगाये जायेंगे टीके….

226
0

रायपुर 11 मई 2018। बाल मृत्यु एवं शिशु मृत्यु को नियंत्रित करने के लिये व टी.बी., काली खांसी, गलघोटू, खसरा, पोलियो,दस्त, निमोनिया आदि संक्रामक रोगों को रोकने के लिये टीकाकरण प्रभावी माध्यम है। छोटी माता व पोलियो रोग के सफल उन्मूलन के पश्चात् भारत सरकार व राज्य सरकार द्वारा खसरा उन्मूलन और रुबेला नियंत्रण का संकल्प लिया गया है ।

इस कड़ी में 02 दिवसीय कार्यशाला ‘‘स्टेट प्लानिंग वर्कशाॅप एंड टी.ओ.टी. फाॅर मीजल्स-रुबेला वैक्सीनेशन कैंपेन’’ का समापन करते हुए स्वास्थ्य संचालक रानू साहू ने कहा कि खसरा-रुबेला के इस अभियान में गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाये। उन्होंने कहा कि पूरे जिले में यह अभियान अगस्त माह में चलाया जाएगा। समय के अनुसार टाइमलाईन व कार्य योजना बनाकर कार्य सम्पादित किये जाये । उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन के लिए ट्रेनिंग व प्रचार-प्रसार बेहतर ढंग से किये जाये ताकि निर्धारित उम्र का कोई भी बच्चा छूटे ।

प्रधानमंत्री के निर्देशानुसार दिसंबर 2018 तक पूर्ण टीकाकरण का लक्ष्य 90 प्रतिशत तक प्राप्त करना है। प्रदेश सरकार इस लक्ष्य के प्रति, प्रतिबद्ध है लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रदेश में नियमित टीकाकरण, मिशन इंद्रधनुष, विशेष टीकाकरण सप्ताह ऐसी महत्वकांक्षी योजना चला रही है। खसरा-रुबेला टीकाकरण देेश के 17 राज्यों में अभियान का संचालन किया जा चुका है। भारत सरकार व राज्य सरकार के द्वारा छत्तीसगढ़ में यह अभियान अगस्त माह में आयोजित किया जायेगा। अभियान के दौरान 09 माह से 15 वर्ष से कम आयु के सभी बच्चों को खसरा व रुबेला के टीके लगाये जायेंगे ।

उल्लेख है कि खसरा एक वायरस के कारण होने वाली बेहद खतरनाक संक्रामक बीमारी है । भारत में एक वर्ष में करीब 50 हजार से 1 लाख बच्चों की मौत इस बीमारी के कारण होती है । बाल मृत्यु दर के प्रमुख कारणों में से यह एक कारण है । रूबेला एक संक्रामक बीमारी है । जो गर्भवती माता के गर्भावस्था के दौरान पलने वाले नवजात शिशु में विकलांगता पैदा कर सकता है । प्रदेश में करीब 85 लाख बच्चों को टीका लगाने के लिये यह कार्यशाला आयोजित की गई है व सभी जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला टीकाकरण अधिकारी व सभी विभागों को आदेश जारी किया जा चुका है ।

शिक्षा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, पंचायत विभाग का महत्वपूर्ण सहयोग भी लिया जा रहा है । विश्व स्वास्थ्य संगठन, यूनिसेफ व यूएनडीपी (यूनाईटेड नेशन्स डेव्हल्पपमेंट प्रोग्राम) जैसी अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं का भी सहयोग इस महत्वाकांक्षी अभियान में लिया जा रहा है । साथ ही साथ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, आईएपी, लायंस क्लब आदि भी सहयोग कर रहे हैं । अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिये पैरेंटस-टीचर्स मीटिंग, मदर्स ग्रुप मीटिंग, डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स मीटिंग, जिला शिक्षा अधिकारियों द्वारा स्कूलों में मीटिंग तथा महिला एवं बाल विकास द्वारा आउट रीच सेशन किया जावेगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here